राजमहल. बीसलपुर बांध Bisalpur Dam के कैचमेंट एरिया सहित जलभराव क्षेत्र Waterlogged area में पिछले 3 दिनों से मानसून की मेहरबानी Monsoon grace के चलते बांध में हो रही पानी की आवक को लेकर बांध का गेज 2016 के बाद सोमवार को पांचवी बार छलकने के कगार पर On the verge of spill है

read more : Bisalpur dam: बीसलपुर फुल, गेट खोलने पर हैं सबकी नजर


इसी प्रकार बांध परियोजना Dam project की ओर से भी बांध के गेट Dam gate खोलने को लेकर सभी तैयारियां पूरी Preparations complete कर ली गई है। बांध के गेट खोलने को लेकर रविवार को जिला कलक्टर टोंक आरसी ढेनवाल, देवली उपखंड अधिकारी अशोक त्यागी टोडारायसिंह उपखंड अधिकारी सूरज सिंह नेगी ने बीसलपुर बांध स्थल पर पहुंचकर बांध परियोजना के अधीक्षण अभियंता वीएस सागर, अधिशासी अभियंता आरसी कटारा ,

 

सहायक अभियंता मनीष बंसल आदि से बांध में हो रही पानी की आवक त्रिवेणी के जलस्तर Water level of triveni सहित बांध से पानी की निकासी को लेकर चर्चा की गई। बांध परियोजना के अधीक्षण अभियंता वीएस सागर व अधिशासी अभियंता आरसी कटारा ने बताया कि त्रिवेणी का गेज लगातार घटता जा रहा है।

read more : बाबा रामदेव पदयात्रा में उमड़ी श्रद्धा, नाचते गाते रवाना पदयात्री हुए

 

वहीं बांध का गेज रविवार रात नौ बजे तक 315.22 आरएल मीटर दर्ज किया गया है, जिसमें 36.736 टीएमसी (थाउजेंड मिलियन क्यूबिक) पानी का भराव Water filler हो चुका है। अब तक बांध में कुल जलभराव का लगभग 94 फीसदी पानी आ चुका है। वहीं 6 त्न पानी की आवक शेष है।

 

त्रिवेणी का गेज लगातार घटकर 2.70 मीटर चल रहा है। बांध सेक्टर में बीते 24 घंटों के दौरान कुल 8 एमएम बारिश दर्ज की गई है बांध परियोजना के अधिशासी अभियंता आरसी कटारा ने बताया कि हालांकि बांध का गेज कुल जलभराव के करीब पहुंचने में महज 28 सेमी शेष रह गया है, लेकिन बांध में पानी की आवक धीमी गति से बढऩे के कारण बांध के गेट सोमवार सुबह या दोपहर तक खोले जाने की संभावना हैं।

read more : मानसून मेहरबान, खुशियों से नहाया राजस्थान, छलक पड़े 220 बांध

 

बीसलपुर बांध से बनास में छोड़े जाने वालाा पानी बांध के डाउनस्ट्रीम में बसे राजमहल, बंथली, जलसीना, छान,भरनी, मेहंदवास टोंक, सवाईमाधोपुर जिले से होकर चम्बल नदी में विलिन हो जाती है। बीसलपुर बांध के गेट अब तक 2004, 2006, 2014 वह 2016 में खोले जा चुके हैं।

 

सोमवार को बांध के गेट खोले जाते हैं तो पांचवी बार बांध से बनास मे पानी की निकासी होगी।बांध के कुल जलभराव में 68 गांव डूब में आते हैं, जिसमें 25 गांव पूर्ण रूप से 43 गांव आंशिक रूप से डूब में आते हैं। बांध की मुख्य दीवार पर कुल 18 गेट है। जो 15 मीटर लंबाई व 14 मीटर ऊंचाई के बने है।

 

बांध का कुल भराव गेज 315.50 आरएल मीटर में दर्ज किया जाता है, जो समुद्र तल से ऊंचाई मानी जाती है, जिसे मैन सी लेवल भी कहा जाता है। बांध के कुल जल भराव में 315.50 आर एल पर नदी तल से कुल 22.50 मीटर तक पानी का भराव होता है। वहीं जमीन तल से बांध की कुल ऊंचाई लगभग 24.50 मीटर है।

 

 



राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned