मौसम की मार झेल रहे बेसहारा ओर असहायो के लिए सहारा बनेगा कपड़ा बैंक

मौसम की मार झेल रहे बेसहारा ओर असहायो के लिए सहारा बनेगा कपड़ा बैंक

pawan sharma | Publish: Dec, 07 2017 02:26:54 PM (IST) Gulzar Bagh, Tonk, Rajasthan, India

जिले में सर्दी का जोर बढऩे लगा है। ऐसे में शहर में शुरू किए गए कपड़ा बैंक लोगों के लिए उपयोगी साबित होगा।

टोंक. उपखण्ड प्रशासन की ओर से बुधवार को शहर के घंटाघर क्षेत्र में कपड़ा बैंक की शुरुआत की गई। इस मौके पर जिला कलक्टर सुबेसिंह, विधायक अजीत मेहता, नगरपरिषद सभापति लक्ष्मीदेवी जैन ने जरूरतमंदों को कपड़ों का वितरण किया।

 

 

इससे पहले जिला कलक्टर ने कहा कि जिले में सर्दी का जोर बढऩे लगा है। ऐसे में शहर में शुरू किए गए कपड़ा बैंक लोगों के लिए उपयोगी साबित होगा। विधायक अजीत मेहता ने कहा कि कई ऐसे लोग है, जिनके पास पहनने के लिए वस्त्र व सोने के लिए बिस्तर का अभाव है।

 

 

ऐसे में बेसहारा लोगों के लिए कपड़ा बैंक वरदान साबित होगा। नगरपरिषद सभापति लक्ष्मीदेवी जैन ने कहा कि ये पहल निर्धनों के लिए अच्छी है। प्रधान जगदीश गुर्जर, उपसभापति अजय सैनी आदि ने विचार व्यक्त किए। इससे पहले अतिथियों ने उपखण्ड अधिकारी प्रभातीलाल जाट की ओर से उपलब्ध कराए गए 50 कम्बल व ऊनी वस्त्र जरूरतमंदों को बांटे। इसके बाद कपड़ा मोबाइल वाहन को रवाना किया गया।

 

 

 

मालपुरा. राजकीय माध्यमिक विद्यालय अविकानगर में बुधवार को केन्द्रीय भेड़ एवं ऊन अनुसंधान संस्थान अविकागनर की महिला क्लब की ओर से विद्यालय में जरुरतमंद लगभग 50 विद्यार्थियों को गर्म वस्त्रों का वितरण किया गया।

 

 

मुख्य अतिथि पूनम तोमर ने कहा कि जरुरतमंद की सेवा करना एक पुनित कार्य है। महिला क्लब की अकिला खान, बबीता ने भी अपने विचार व्यक्त किए। प्रधानाचार्य शिवजीराम चौधरी ने सभी महिला क्लब की सदस्य व मुख्य अतिथि का स्वागत किया।

 

सुविधा पर ताला, अधिकारी को पता नहीं...

टोंक. केन्द्रीय बस स्टैण्ड टोंक परिसर में बने सुलभ कॉम्प्लेक्स पर पिछले काफी समय से ताला लगा हुआ है। बस स्टैण्ड पर सुविधा बढ़ाने का आश्वासन देने वाले जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी जानबूझ कर अनजान बने हुए है।

 

 

जानकारी के अनुसार विगत महीनों में बस स्टैण्ड परिसर में ठेके पर संचालित सुलभ कॉम्प्लेक्स के संचालित होने पर निगम की ओर की से निर्मित सुलभ कॉम्प्लेक्स को कबाड़ बना ताला लगा दिया। अब हालात यह है कि यात्रियों को उन सुविधाओं का भी शुल्क देना पड़ रहा है, जो निगम के मापदण्डों में नि:शुल्क है।

 

 

इधर, टोंक आगार के मुख्य प्रबंधक रामचरण गोचर का कहना है कि उन्हें यहां आए तीन माह हुए हैं। किसी ने निगम के सुलभ कॉम्प्लेक्स के बारे में बताया ही नहीं, इसलिए स्थिति के बारे में पता नहीं है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned