प्रशासन व खनिज विभाग की टीम ने बनास की बजरी से भरे डेढ़ दर्जन वाहन पकड़े

प्रशासन व खनिज विभाग की टीम ने बनास की बजरी से भरे डेढ़ दर्जन वाहन पकड़े

Kamal Bairwa | Publish: Jul, 14 2018 12:13:55 PM (IST) Tonk, Rajasthan, India

टोंक. प्रशासन की टीम ने पुलिस के साथ मिलकर बजरी से भरे डेढ़ दर्जन वाहन पकड़े हैं।

टोंक. प्रशासन की टीम ने पुलिस के साथ मिलकर बजरी से भरे डेढ़ दर्जन वाहन पकड़े हैं। खनिज विभाग के सहायक अभियंता अमीचंद दुहारिया ने बताया कि टोडारायसिंह के इंदोकिया गांव में बनास नदी से बजरी भरकर आ रहे 6 ट्रेलर तथा दो ट्रक को गुरुवार रात पकड़ा था। वहीं शुक्रवार शाम बरोनी थाना क्षेत्र के सोहेला में कार्रवाई की गई। इसमें बरोनी थाना पुलिस तथा प्रशासन की टीम ने बजरी से भरी एक दर्जन ट्रैक्टर-ट्रॉलियों को पकड़ा है।

 

वहीं टोडारायसिंह में बजरी के अवैध खनन पर कार्रवाई करते हुए टोडारायसिंह उपखण्ड प्रशासन ने गुरुवार रात इंदोकिया के पास गश्त के दौरान बजरी से भरे ८ ट्रेलर जब्त किए है। बरसात व अंधेरे का फायदा उठाकर चालक मौके से फरारहो गए। उपखण्ड अधिकारी साधूराम जाट व थाना प्रभारी उदयसिंह की अगुवाई में मोर चौकी प्रभारी शंकरलाल चौधरी समेत अन्य पुलिसकार्मिकों ने बनास नदी से आने वाले मार्गों पर गश्त की।

 

इंदोकिया व कुहाड़ाबुजुर्ग के रास्ते पर नाकाबंदी के दौरान देर रात बजरी भरकर ले जा रहे ८ टे्रलरों को रोक लिया। ट्रेलरों की तलाशी के दौरान रस्सी से बंधे तिरपालों के नीचे बजरी भरी मिली। प्रशासन ने सभी ट्रेलरों को जब्त कर पुलिस निगरानी में रखा। सीआई ने बताया कि शुक्रवार को कार्रवाई को लेकर सभी ट्रेलरों को खनन विभाग के सुपुर्द कर दिया गया। इधर, प्रशासन की कार्रवाई के बीच ट्रेलर मालिक व खननकर्ताओं में हडक़म्प मच गया।

 

बघेरा आने की सूचना से दशहत
बंथली. देवड़ावास में शुक्रवार को बघेरा देखे जाने की सूचना के बाद लोगों में दशहत हो गई। लोग बाहर निकलने से भी कतराने लगे। सूचना के बाद सरोली चौकी पुलिस ने जांच की तो अफवाह निकली। चौकी प्रभारी राजेन्द्र प्रसाद शर्मा ने बताया कि ग्रामीणों ने खेतों की तरफ बघेरा देखे जाने की मोबाइल फोन पर सूचना दी। जहां लोगों में दशहत का माहौल था। बाद में पुलिसकर्मियों ने आस-पास पगमार्क देखकर लोगों से जानकारी ली तो अफवाह निकली। बघेरे की सूचना अफवाह निकलने पर दशहत के चलते घरों में बैठे लोगों ने राहत की सांस ली।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned