जेल अधिकारियों समेत तीन के खिलाफ मामला दर्ज


जेल में अवैध वसूली व मारपीट का मामला
जेल में वसूली का खेल

By: Vijay

Published: 15 Sep 2020, 09:31 AM IST


टोंक. जिला जेल में बंदियों के साथ मारपीट व अवैध राशि वसूली का मामला कोतवाली थाने में दर्ज कराया गया है। इसमें तीन नामजद समेत जेल के अधिकारी-कर्मचारियों को आरोपी बनाया गया है। मामले की जांच कोतवाली थाना पुलिस कर रही है। गौरतलब है कि जिला जेल में चल रही बंदियों के साथ मारपीट व अवैध चौथ वसूली का मामला राजस्थान पत्रिका ने प्रमुखता से उठाया था। कोतवाली थाने में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेश पर मामला दर्ज किया गया है। यह मामला बंदियों के वकील राजेंदसिंह तोमर की ओर से दर्ज कराया गया है। इसमें जेल के बंदी मेघराज जाट पुत्र शिवदयाल, रामपाण्डे पुत्र हरिवंश व राजेश चायवाला पुत्र रामस्वरूप समेत जेल के अधिकारी-कर्मचारियों के मामला दर्ज कराया है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आइपीसी की धारा 323, 341, 506, 342, 351, 352, 374, 119, 120, 120 बी, 161, 162, 166, 384, 385, 34, भ्रष्टाचार विरोधी अधिनियम की धारा 7,8 तथा 13.1, 13.2 के तहत मामला दर्ज किया है।
गौरतलब है कि सवाईमाधोपुर निवासी आरोपी जितेन्द्र सिंधी और शंकर जंगम को टोंक जेल में शिफ्ट किया गया था। उनसे टोंक जेल में सुविधाओं के नाम पर राशि मांगी गई। जब उन्होंने राशि नहीं दी तो मारपीट की गई। इसकी शिकायत भी जेल प्रशासन से की गई, लेकिन किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की।
ऐसे में उन्होंने अधिवक्ता राजेन्द्रसिंह तोमर के माध्यम से जिला कलक्टर समेत अन्य उच्चाधिकारियों को शिकायत की। इसके बाद ५ शिकायत और सामने आई। इसमें सभी बंदियों ने जेल में मारपीट करने तथा अवैध वसूली की बात की। उन्होंने बताया कि जेल में प्रशासन की मिलीभगत से बंदी मारपीट करते हैं। वे मोबाइल एप के माध्यम से रुपए अपने बैंक खातों में मांगते हैं। अब जेल के कई बंदियों ने यह राशि एप के जरिए जमा कराई है। पीडि़त बंदियों ने ६ महीने में ही करीब ५० हजार रुपए जमा कराए हैं। शिकायतों के बाद जिला प्रशासन ने जांच कमेटी का गठन किया, लेकिन इस जांच से पीडि़त पक्ष संतुष्ठ नहीं हुआ। ऐसे में उन्होंने इस्तगासे के माध्यम से मामला दर्ज कराया है। मामले की जांच सहायक उपनिरीक्षक प्रभुसिंह को दी गई है।

Vijay Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned