कोरोना वायरस का कहर : एक प्रवासी व महिला रोगी समेत चार आए पॉजिटिव

जिले में कुल पॉजिटिव163, अभी भी 101 नमूनों की जांच बाकी, 3412 लोग है होम आइसोलेशन में

By: Vijay

Published: 28 May 2020, 09:36 AM IST



टोंक. कोरोना वायरस संक्रमण अब बाहर से जिले में आ रहे प्रवासियों में आ रहा है। जिले में एक प्रवासी पॉजिटिव आया हैं। वहीं एक महिला चिकित्सा के दौरान नमूना लेने पर पॉजिटिव पाई गई है। ऐसे में बुधवार को कुल चार पॉजिटिव केस आए हैं। इसमें महिला रोगी का नमूना देवली चिकित्सालय में लिया था, लेकिन उसे बाद में जहाजपुर रैफर कर दिया गया। ऐेसे में वह रोगी अभी जहाजपुर में है। इसके अलावा प्रवासी एक रोगी हथौना, सोनवा तथा पीपलू में आया है। ऐसे में अब कुल कोरोना पॉजिटिव की संख्या १६३ हो गई है।
जिला कलक्टर के.के.शर्मा ने बताया कि जिले में अब तक 6548 लोगों के सेम्पल लिए गए हैैं। जिनमें १६३ लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। अभी 101 नमूनों की जांच बाकी है। संस्थागत क्वारंटी सेन्टर में 3 लोग है। उन्होंने बताया कि कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव होकर स्वस्थ हुए लोगों की संख्या 136 है। अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए मरीज 19 एवं कोरोना पॉजीटिव एक्टिव केस 3 है। एक की मृत्यु हो चुकी है।
जिला कलक्टर ने बताया कि टोंक शहर में 10 सर्वे राउण्ड के तहत सर्वे टीमों द्वारा कंटेनमेंट जोन में 2 लाख 223 घरों के 12 लाख 2 हजार 672 लोगों का सर्वे किया जा चुका है। इनमें आइएलआइ के केस एक हजार 175 है। बफर जोन में एक लाख 62 हजार 850 घरों के 9 लाख 47 हजार 334 लोगों का सर्वे किया गया है। इनमें आइएलआइ के 248 केस है। आइएलआइ मरीजों की क्लोज मॉनिटरिंग की जा रही है। वर्तमान में 3412 लोग होम आइसोलेशन में है। कुल 49 हजार 477 लोग होम आइसोलेशन में रखे गए थे। जिनमें से 46 हजार 65 ने होम आइसोलेशन की 14 दिन की अवधि पूर्ण कर ली है।
प्रवासियों की नियमित रूप से की जा रही मॉनिटरिंग
सीएमएचओ डॉ. अशोक कुमार यादव ने बताया कि जिले में आ रहे प्रवासियों की नियमित रूप से मॉनिटरिंग व स्क्रीनिंग की जा रही है। डॉ. यादव ने बताया कि गत 28 अप्रेल से लेकर अब तक 8 हजार 399 प्रवासी टोंक जिले में आ चुके हैं। चिकित्सकों द्वारा इन प्रवासियों पर नियमित मॉनिटरिंग व स्क्रीनिंग की जा रही है। इन प्रवासियों में खांसी, जुखाम, बुखार वाले लक्षणों के 178 मरीजों के सैंपल लिए गए थे, जिसमें से 3 प्रवासी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। राहत की बात यह रही कि यह सभी तीन पॉजिटिव प्रवासी भी अब पूर्ण उपचारित होकर अस्पताल से डिस्चार्ज होकर उनके घर चले गए हैं। वहां वे होम आइसोलेशन पर है। इधर, लोकडाउन अवधि में प्रदेश सरकार की ओर से मोबाइल मेडिकल ओपीडी वेन संचालित की जा रही है। सीएमएचओ डॉ. अशोक कुमार यादव ने बताया कि कोरोनावायरस के अलावा अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों को उपचार उनके मोहल्ले व गांव में ही मिल सके, इसके लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुरू की गई मोबाइल ओपीडी वेन आम लोगों के लिए वरदान साबित हो रही है। उन्होंने बताया कि शहर के कफ्र्यूग्रस्त क्षेत्र एवं कोरोना प्रभावित ग्रामीण क्षेत्रों में मरीज की सुविधा को ध्यान में रखते हुए टोंक जिले में 8 मोबाइल ओपीडी वेन संचालित की जा रही है। डिप्टी सीएमएचओ महबूब खान ने बताया कि मोबाइल ओपीडी शहरी तथा खंड स्तर से रूट चार्ट के अनुसार गांव व शहर में जाकर लोगों की जांच एवं परामर्श के उपरांत मरीजों को आवश्यक दवाएं भी वितरित की जा रही है। इसी के तहत जिले में 8 संचालित अलग-अलग जगहों पर मेडिकल मोबाइल ओपीडी वैन में नियुक्त चिकित्सीय दल द्वारा अब तक कुल 11 हजार 283 मरीजों को परामर्श व दवाइयां निशुल्क मुहैया कराई गई है।

Vijay Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned