छीजत के नाम पर तोल ली लाखों की फसल


किसानों को नुकसान
समर्थन मूल्य केन्द्रों का हाल

By: Vijay

Published: 02 Jun 2020, 09:40 AM IST


निवाई. क्रय-विक्रय सहकारी समिति द्वारा संचालित सरकारी खरीद केंद्र सरसों व चने तुलाई में छीजत के नाम पर अधिक तुलाई की जा रही है। खरीद केंद्र पर तैनात कर्मचारियों भी अधिक मात्रा में की जा रही तुलाई के बारे में स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कह पा रहे है। सरकारी खरीद केंद्र पर किसान की फ सल की तुलाई के दौरान छीजत के नाम पर करीब 300 ग्राम अधिक फ सल तोली जा रही है, जिससे किसान को एक कट्टे पर करीब 17 रुपए सरसों पर व 19 रुपए चने की फ सल नुकसान हो रहा है। और खरीद केंद्र के अधिकारियों-कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले हो रही है। जबकि सरकारी आदेशों में सरकारी खरीद केंद्र पर भरती और बारदाना का ही वजन लेना चाहिए। अब तक छीजत के नाम पर खरीद केंद्र के अधिकारी-कर्मचारी लाखों रुपए की चपत लगा चुके है। एक माह में निवाई, सिरस और पलेई सरकारी खरीद केंद्र पर 1248 किसानों के कुल 27785 सरसों के कट्टे व 28592 चने के कट्टों की तुलाई हो चुकी है।
क्रय-विक्रय सहकारी समिति के प्रबंधक जितेंद्र मीणा का कहना कि तुलाई केंद्र पर सरसों व चने की 50 किलो वजन भरती, 989.580 ग्राम राजफैड के बारदाने का वजन तथा 100 से 150 ग्राम के हिसाब से छीजत ली जाती है। क्योंकि तुलाई के बाद फ सल सूख जाती है।
राजफैड के रीजनल मैनेजर सतीश सिंहल का कहना है कि खरीद केंद्र पर फ सल भरती के साथ छीजत के नाम पर कुछ नहीं लिया जाना चाहिए, लेकिन प्रैक्टिकल तौर
फ सल सुख जाती है तो छीजत के पर अधिक तुलाई कर लेते है जो पूर्णतया अनुचित व गलत है।

Vijay Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned