बांधों को मानसून का इंतजार, जल संसाधन विभाग ने की तैयारी

जिले में जल संसाधन विभाग के बांधों में पिछले साल पानी की आवक कम होने से बांध सूखे पड़े है। अब बांधों को संजीवनी रूपी अमृत पानी के लिए मानसून का इंतजार है। जून माह के आखिरी तक मानसून आने की सम्भावनाओं को ध्यान में रखते हुए जल संसाधन विभाग टोंक ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी की है।

By: pawan sharma

Published: 11 Jun 2021, 06:39 PM IST

टोंक. जिले में जल संसाधन विभाग के बांधों में पिछले साल पानी की आवक कम होने से बांध सूखे पड़े है। अब बांधों को संजीवनी रूपी अमृत पानी के लिए मानसून का इंतजार है। जून माह के आखिरी तक मानसून आने की सम्भावनाओं को ध्यान में रखते हुए जल संसाधन विभाग टोंक ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी की है।


जिला कलक्टर चिन्मयी गोपाल की अध्यक्षता में मानसून पूर्व तैयारियों व फ्लड कंटीजेन्सी प्लान सम्बधी बैठक आयोजित की जा चुकी है, जिसमें जिला कलक्टर ने अभी से बांधों की मरम्मत कराई जाने व आपातकालीन बाढ़ व जलभराव की अधिकता से निपटने की तैयारी किए जाने के निर्देश दिए है।

विभाग के अधिशासी अभियंता गजानन्द सामरिया जिले के सभी बांधों का निरीक्षण करके संसाधनों की जानकारी करने में जुटे हुए है। सामरिया ने बताया कि पिछले साल टोंक जिले के बीस बांधों में 1846.61 एमसीएफटी पानी की आवक हुई थी, जिसमें से 1688.19 एमसीएफटी पानी सिंचाई के लिए उपलब्ध कराया गया था, जिससे 20704. 05 हेक्टेयर भूमि सिंचित हुई थी।

उन्होंने बताया कि टोंक जिले के सभी बांधों की मरम्मत की जा चुकी है, साथ ही कई जगह काम चल रहा है जो करीब 15 जून तक पूरा हो जाएगा। उन्होंने बताया कि उपखंड क्षेत्रों में बांधों की देखरेख के लिए जेसीबी, श्रमिक, खाली व भरे कट्टे, निरीक्षण वाहन आदि के लिए निविदा जारी की जा चुकी है ताकि मानसून के दौरान किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आए। सामरिया ने ो टोरडी सागर, सहोदरा, किरावल सागर, रामसागर लाम्बाहरिसिंह, घारेडा सागर आदि का निरीक्षण किया साथ ही सम्बंधित अभियंताओं की बैठक ली, जिसमे मानसून पूर्व सभी तैयारिया पूरी किए जाने के निर्देश दिए।

बांध का निरीक्षण कर दिशा निर्देश दिए

टोडारायसिंह. उपखण्ड अधिकारी ने गुरुवार को मानसून पूर्व उपखण्ड के घारेड़ा समेत अन्य बांधों का निरीक्षण कर अधिनस्थ अधिकारियों का आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उपखण्ड अधिकारी रूबी अंसार व विकास अधिकारी प्रीति सिंह ने शुक्रवार को उपखण्ड क्षेत्र स्थित घारेड़ा सागर बांध, रीण्डल्या बांध, बनकाखेड़ा, पन्द्राहेड़ा व सुरजपुरा बांध का निरीक्षण किया।

सिंचाई की दृष्टि से निर्मित बांधों का मानसून पूर्व निरीक्षण कर अधिनस्थ कार्मिकों को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने बांधो की सुरक्षा को लेकर पानी निकासी पर्याप्त रखने, मिट्टी से भरे बैग तैयार रखने, जेसीबी, बाढ़ नियंत्रण को लेकर कमाण्ड व डूब क्षेत्र के लोगो को पूर्व सूचना देकर खाली करवाने के आदि निर्देश दिए। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों को मानसून पूर्व तालाब, खेल मैदान, सार्वजनिक स्थलों पर गड्ढे करवाने तथा पौधे खरीद कर तैयार रखने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रति पंचायत एक हजार पौधे लगाने का लक्ष्य दिया।


मानसून पूर्व की तैयारी की समीक्षा की
मालपुरा. उपखण्ड अधिकारी कार्यालय में गुरुवार को उपखण्ड अधिकारी डॉ. राकेश कुमार मीणा की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में मानसून से पूर्व तैयारियों की विभागवार समीक्षा की जाकर निर्देश दिए। बैठक में एसडीओ ने कहा कि मानसून आगमन से पूर्व सभी ग्राम पंचायतों एवं मुख्यालय पर पेयजल स्रोतों को पानी के आवक के रास्ते एवं शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों के नालो की साफ सफाई एवं टूटे नालो, नालियों, श्मशान-कब्रिस्तान तथा आम रास्तों पर होने वाले जलभराव की समस्या का वर्षा से पूर्व समाधान किया जाए।

वही उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि मानसून आगमन से पूर्व विद्युत लाइनों का रखरखाव पूर्ण किया जाए, जिससे कोई दुर्घटना व बारिश के दौरान विद्युत आपूर्ति बाधित ना हो। वही पंचायत समिति के विकास अधिकारी एवं सिचाई विभाग के अधिकारियों को सभी ग्राम पंचायतो के तालाब, नाडे, एनिकट, बाधो के मरम्मत एवं रख रखाव की सुनिश्चितता करने के निर्देश दिए। बैठक में तहसीलदार ओमप्रकाश जैन, नायब तहसीलदार हसंराज तोगड़ा, डिग्गी नायब तहसीलदार प्रहलाद सिंह, सिचाई विभाग के कनिष्ठ अभियंता कोमल कुमावत, विद्युत विभाग, जलदाय विभाग की सुनीता चौधरी, नगर पालिका के एसआई निरज चाहर उपस्थित रहे।

Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned