चैत्र नवरात्र पर मंत्रोच्चार के साथ हुई घट स्थापना, प्रमुख मंदिरों में शुरू हुए अनुष्ठान

चैत्र नवरात्र पर घट स्थापना के साथ ही मां दुर्गा की आराधना के पर्व नवरात्र शुरू हुए। मंदिरों व घरों में श्रद्धालुओं ने शुभ मूर्हत में घट स्थापना की। सुबह से शाम तक मंदिरों में माता के दर्शनों के लिए श्रद्धालु आते रहे।

By: pawan sharma

Updated: 14 Apr 2021, 08:43 AM IST

टोंक. जिले भर में चैत्र नवरात्र पर घट स्थापना के साथ ही मां दुर्गा की आराधना के पर्व नवरात्र शुरू हुए। मंदिरों व घरों में श्रद्धालुओं ने शुभ मूर्हत में घट स्थापना की। सुबह से शाम तक मंदिरों में माता के दर्शनों के लिए श्रद्धालु आते रहे। मंदिर में मास्क पहनकर आने वालों को ही प्रवेश दिया गया। शहर के कंंकाली माता, बनास नदी स्थित वैष्णो देवी माता, काफला स्थित नला वाली माता, हाइवे स्थित स्वर्ण दूर्गा माता व पुरानी टोंक गढ़ स्थित बराई माता मंदिर में दुर्गा मां की विशेष झांकी सजाई गई।

शक्तिपीठ स्थलों पर श्रद्धालुओं की नो एंट्री पुलिस जाप्ता तैनात

देवली. चैत्र नवरात्रा मंगलवार से शुरू हो गए, लेकिन कोरोना संक्रमण के बेकाबू होते मामले से उपखण्ड के प्रमुख शक्ति पीठ स्थलों पर सिर्फ पूजा का काम पुजारी करते रहेंगे। नो दिवसीय महोत्सव में आस्था स्थलों पर दर्शनार्थ ना श्रद्धालुओं को जाने दिया जा रहा और ना ही दुकानें लग रही है। क्षेत्र में हिंगलाज माताजी चांदली,रावता माताजी पर नवरात्रि में पुलिस जाप्ता लगा दिया है। समीपस्थ बीजासन माताजी कुंचलवाड़ा पर भी समिति ने कोरोना के मध्यनजर रोक लगा दी है। उपखण्ड क्षेत्र में नवरात्रि पर्व में हिंगलाज माताजी मंदिर चांदली एवं बीजासन माताजी मंदिर रावता पर अधिक भीड़ आने की आशंका को देखते हुए सोमवार को ही उपखण्ड अधिकारी भारत भूषण गोयल ने दौरा किया।इस दौरान उनके साथ पुलिस उप अधीक्षक दीपक कुमार मीणा एवं थाना प्रभारी साथ थे। उन्होंने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को मध्यनजर रखते हुए दर्शनाथियों की रोक के लिए मंदिर परिसर पर बेरिकेड््स लगाने के निर्देश दिए है।

मंत्रोच्चार के साथ हुई घट स्थापना

निवाई. चैत्रीय नवरात्र पर्व को लेकर शहर के प्रमुख मंदिरों में वैदिक आचार्यों के सान्निध्य में मंत्रोच्चार के साथ विधिवत पूजा अर्चना कर घट स्थापना की गई। शहर के कंकाली माता मंदिर में मां कंकाली का महाभिषेक कर झांकी सजाई गई। बावड़ी वाले बालाजी मंदिर और मोरिया वाले बालाजी मंदिर में चोलार्पण किया गया। कोरोना गाइडलाइन के चलते मंदिरों में एक बार में 15 दर्शनार्थियों को ही प्रवेश दिया गया। चारभुजानाथ मंदिर परिसर में भी सामूहिक घट स्थापना की गई। ज्वालामुखी माता मंदिर बरथल, चनानी माता मंदिर चनानी, भुरटियाए मूंडिया और गुंसी में नवरात्र पर्व को लेकर धार्मिक अनुष्ठान शुरू हुए।


दूणजा माता मंदिर मेें दिखी सख्ती
दूनी. बढ़ती कोरोना महामारी के बीच मंगलवार क्षेत्र के मंदिरों एवं घरों में घट-स्थापना के साथ चैत्र नवरात्रि की शुरुआत हुई। नवरात्रि के पहले दिन पुलिस की मौजूदगी में सरकार की गाइडलाइन पालना के साथ श्रद्धालुओं ने कस्बे के प्रसिद्ध दूणजा माता सहित देवी-देवताओं के मंदिर में दर्शनकर भगवान से महामारी से बचाव करने की प्रार्थना की। श्रद्धालुओं ने मास्क लगा, सोशल डिस्टेंस रख एवं गाइडलाइन पालना के साथ दूणजा माता के दर्शनकर कोरोना महामारी से बचाव की प्रार्थना की।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned