लॉकडाउन अवधि में निर्धन व जरुरतमंद परिवारों के लिए प्रशासन ने भेजे आटे के पैकेट

लॉकडाउन अवधि में निर्धन व जरुरतमंद परिवारों की मदद के लिए रविवार शाम जिला कलक्टर टोंक की ओर से 500 पैकेट आटे के स्थानीय प्रशासन को प्राप्त हुए।

By: pawan sharma

Published: 05 May 2020, 06:24 PM IST

देवली। लॉकडाउन अवधि में निर्धन व जरुरतमंद परिवारों की मदद के लिए जिला कलक्टर टोंक की ओर से 500 पैकेट आटे के स्थानीय प्रशासन को प्राप्त हुए। नायब तहसीलदार रामधन मीणा ने बताया कि जिला कलक्टर की ओर से आटे के 10-10 किलों के 500 पैकेट मिले है।

जिन्हें ट्रक से उतारकर नगर पालिका कार्यालय में सुरक्षित रखवाया है। जिसे प्रतिदिन अलग-अलग क्षेत्रों में जाकर जरुरतमंदों को वितरीत किया जाएगा। सोमवार को वार्ड नं 17 व 18 के करीब 100 परिवारों को आटे के पैकेट वितरीत किए गए। उक्त वितरण पटवारी, पालिकाकर्मी व सहयोगी कर्मचारी के जरिए किया जा रहा है।

हॉट जोन से आएं व्यक्ति की जांच की जरुरत, मेडिकल टीम के चिकित्सकों की राय
देवली। शहर के परशुराम सर्कल स्थित क्वारंटाइन सेन्टर में रह रहे एक व्यक्ति की कोरोना जांच की स्थानीय चिकित्सालय के चिकित्सक जरुरत महसूस कर रहे है। उक्त व्यक्ति देश के दिल्ली जैसे हॉट जोन से आया था। जिसकी जांच कर संतुष्ट होना टीम के लिए बेहद जरुरी है।

जानकारी के अनुसार उक्त व्यक्ति एक सुरक्षा बल में दिल्ली में ड्यूटी कर रहा था। जो दो दिन पहले अपने पिता की मौत पर देवली आया था। जिसे पिता के अंतिम दर्शन के बाद तत्काल 14 दिन के लिए क्वारंटाइन कर दिया गया। मेडिकल टीम के सदस्यों के अनुसार उक्त व्यक्ति दिल्ली से आया है।

ऐसे में उसकी कोरोना जांच की जानी चाहिए, ताकि किसी प्रकार का संक्रमण का खतरा न हो। हांलाकि स्थानीय चिकित्सकों ने टोंक उच्चाधिकारियों को जांच के लिए कहा तो स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने जांच करने से इंकार कर दिया। लेकिन विभाग की यह लापरवाही शहरवासियों के लिए खतरा पैदा कर सकती है।

सभी तरह के व्यापार शुरू करवाने की मांग, व्यापार महासंघ ने सौंपा ज्ञापन

देवली। लॉक डाउन-3 में केन्द्र सरकार के निर्देशानुसार सभी तरह के व्यापार शुरू करने की मांग को लेकर व्यापार महासंघ ने सोमवार को एसडीओ को ज्ञापन सौंपा। इसमें बताया कि सरकार की गाइड लाइन के अनुसार जिले को ओरेंज जोन में शामिल किया है। ज्ञापन में उक्त जोन के निर्देशानुसार सभी तरह के व्यापार खोलने की मांग की गई।

व्यापारियों ने यह भी सुझाव दिया कि यदि प्रशासन शहर में व्यापार शुरू करने में विकल्पात्मक व्यवस्था शुरू करें तो व्यापारियों को सुविधा होगी। उक्त विकल्पात्मक व्यवस्था जहाजपुर उपखण्ड प्रशासन की ओर से की गई है। जिसमें प्रतिदिन बदलकर दुकाने खोलने की व्यवस्था की गई। लेकिन महासंघ ने दुकानों समय का निर्धारण करने का निर्णय प्रशासन पर छोड़ा है। बैठक में अध्यक्ष रमेश जिन्दल, दिनेश जैन, सुरेश अग्रवाल, चांदमल जैन, राधेश्याम मालू, ओमप्रकाश मंगल, रमेश गोयल थे।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned