कोरोना के डर से वार्ड हुए खाली, गंभीर मरीज भी नहीं जा रहे अस्पताल

कोरोना के डर से वार्ड हुए खाली, गंभीर मरीज भी नहीं जा रहे अस्पताल

 

By: pawan sharma

Published: 19 Sep 2020, 06:13 PM IST

पीपलू(रा.क.). कोरोना काल में अब लोग अस्पताल जाने से भी परहेज करने लगे हैं। ऐसे में गंभीर बीमारियां और ज्यादा खतरनाक होती जा रही हैं। कोरोना काल के चलते लोग छोटी-छोटी बीमारियों को तो पूरी तरह नजर अंदाज कर रहे हैं। ऐसे में कई लोगों के लिए यह बीमारियां मुसीबत भी बन रही हैं।

जहां चिकित्सा विभाग का कहना है कि स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए। पीपलू कस्बे सहित आस-पास के क्षेत्रों के लोग कोरोना वायरस की वजह से सामुदायिक चिकित्सालय में जाने की बजाए मेडिकल, निजी क्लिनिक, झोलाछाप डॉक्टरों को दिखाकर अपनी बीमारी का इलाज करवाने में जुटे हैं।

सूत्रों के अनुसार पीपलू कस्बे सहित आस-पास के क्षेत्रों में कई मरीजों में कोरोना जैसे लक्षण होने के बावजूद वह सरकारी अस्पताल में जाने तथा कोरोना जांच के डर के चलते बाहर ही अपना इलाज करवाने में जुटे हैं। हालांकि ऐसे लोग अपने जीवन के लिए एक चुनौती खड़ी कर रहे हैं।

लोगों में पॉजिटिव, नेगेटिव को लेकर भ्रम!टोंक जिले सहित पीपलू क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का ग्राफ तो बढ़ रहा हैं, लेकिन बिना लक्षण तथा बिल्कुल स्वस्थ दिखने वाला पहले पॉजिटिव तथा अगली रिपोर्ट में नेगेटिव तथा खांसी, जुखाम, बुखार से पीडि़त होने के बावजूद कई मरीजों की नेगेटिव रिपोर्ट आने से लोगों में अब कोरोना के प्रति भ्रम भी पैदा होने लगा हैं।

पहले लापरवाही की, अब जयपुर में भर्ती पीपलू कस्बे सहित आस-पास के कई मरीजों ने कोरोना के चलते इलाज में लापरवाही बरती। वहीं कई मरीज अपने परिचित, रिश्तेदार जो निजी क्लिनिक या मेडिकल चलाते हैं उनके राय मशविरा से दवा लेते रहे हैं। हालांकि अब इस तरह के पीपलू क्षेत्र के करीब आधा दर्जन मरीजों की हालत गंभीर हैं तथा जयपुर में निजी व सरकारी अस्पतालों के आईसीयू में भर्ती हैं।

अफवाहों ने पकड़ा जोर

मालपुरा. चिकित्सा विभाग की ओर से जब कोरोना पॉजिटिव रोगियों की संख्या के बारे में जानकारी देना बंद हुआ है, तब से ही अफवाहों के चलते लोग दहशत में है। चिकित्सा विभाग की ओर से बढ़ते संक्रमित रोगियों की अधिकृत संख्या की जानकारी देना बंद कर दी गई।

इसके बाद शहर में अफवाहों का दौर जारी रहता है। लोग अफवाहो से दहशत में है। शहरवासियों का मानना है कि विभाग ने जानकारी गुप्त रखकर आम जन को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है। जानकारी नहीं मिलने और पॉजिटिव आने के बाद भी स्वयं संक्रमित सहित उनके परिवार जन बाजारो में घूमते रहते हैं। दिन भर कई लोगों से मिलते रहते हैं, जिससे संक्रमण कम होने के स्थान पर फैलता ही जा रहा है।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned