दामों में बढ़ोतरी बार-बार, अब गैस सिलेण्डर हो गया 850 के पार

जहां एक ओर देश की जनता पेट्रोल-डीजल की दामों से त्रस्त है, वहीं अब सरकार ने घरों की रसोई तक भी टेंशन बढ़ा दी है। भले ही गैस सिलेण्डर आजकल आसानी से मिलने लगा है, लेकिन इनकी कीमतों में रोजाना हो रही बढ़ोतरी से हर वर्ग के लोग परेशान हैं।

By: pawan sharma

Published: 03 Jul 2021, 06:18 PM IST

टोक. जहां एक ओर देश की जनता पेट्रोल-डीजल की दामों से त्रस्त है, वहीं अब सरकार ने घरों की रसोई तक भी टेंशन बढ़ा दी है। भले ही गैस सिलेण्डर आजकल आसानी से मिलने लगा है, लेकिन इनकी कीमतों में रोजाना हो रही बढ़ोतरी से हर वर्ग के लोग परेशान हैं।

बढ़ती महंगाई के कारण निम्न व मध्यम वर्ग के लोगों का जीना मुहाल हो गया है। गैस सिलेण्डर के दाम में लगातार वृद्धि हो गई है। वहीं महिलाओं की रसोई गैस का बजट बिगड़ गया है। गैस सिलेण्डर पर सब्सिडी आना भी बंद हो गई। बढ़ती महंगाई ने कमर तोड़ कर रख दी है। घर के खर्च को पूरा करने में आर्थिक परेशानियों को सामना करना पड़ रहा है। जया विजय, गृहणी

मुश्किल रसोई गैस सिलेण्डरों की दरों में लगातार वृद्धि की जा रही है। बच्चों की पढ़ाई से लेकर रसोई खर्च तक महंगा होते जा रहा है। रसोई गैस के दामों मेें कई बार बढ़ोतरी हो चुकी है। जब से कोरोना महामारी शुरू हुई है हर चीज के दाम बढ़ गए हैं। घर का खर्च चलाना मुश्किल हो रहा है। सरकार को कुछ राहत देनी चाहिए।
सारिका भारद्वाज, गृहणी, टोंक

आपदा में दिनोंदिन बढ़ती महंगाई ने लोगों के लिए नई मुसीबत खड़ी कर दी है। महंगाई के साथ लगातार बढ़ती गैस की कीमतों ने घर का बजट बिगाड़ कर रख दिया है। दूसरी ओर सरकार ने इस पर मिलने वाली सब्सिडी भी बंद कर दी है। अब अन्य घर खर्च के साथ रसोई के खर्चों में कटौती करने के सिवाय और कोई चारा नहीं बचा है।
सिंकू दाधीच, गृहणी, टोंक
पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमत ने कामकाजी वर्ग की बेचैनी बढ़ा दी है तो रसोई गैस के दाम में बढ़ोतरी की वजह से महिलाओं की रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। पिछले साल के लॉकडाउन शुरू होने के बाद तो अभी तक रसोई गैस पर मिलने वाली सब्सिडी भी लोगों को नहीं मिल रही है। रोजमर्रा की वस्तुओं के महंगी होने पर बोझ बढ़ गया है। सुनिता बंसल, गृहणी
आए दिन रसोई गैस सिलेण्डर की दाम बढऩे से घर का खर्च चलाना मुश्किल हो रहा है। जब से कोरोना महामारी शुरू हुई है। हर चीज के दाम बढ़ गए हैं। घरेलू गैस के दामों में नियंत्रण पर सरकार पूरी तरह नाकाम है। कोरोना संक्रमण काल में बचत तो खत्म हो गई। अब व्यवस्था बनाना मुश्किल हो रहा है। रसोई गैस के दामों पर अंकुश लगाना चाहिए। पिंकी त्रिपाठी, गृहणी

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned