scriptGood news from Tonk for the builders of Rajasthan. | राजस्थान के बिल्डर्स के लिए टोंक से खुशखबर, बनास से बजरी खनन शुरू | Patrika News

राजस्थान के बिल्डर्स के लिए टोंक से खुशखबर, बनास से बजरी खनन शुरू

नवम्बर 2017 से बंद है बजरी का खनन

टोंक

Published: January 15, 2022 01:35:23 pm

टोंक. जिले की बनास नदी से प्रदेश की भवन निर्माण कम्पनियों के लिए खुशखबरी है। जी हां, बनास नदी से वैध रूप से बजरी खनन शुरू हो गया है। ऐसे में बजरी अब कानूनी रूप से एवं कम दाम पर आसानी से उपलब्ध हो सकेगी। भवन निर्माण में बनास की बजरी बेजोड़ मानी जाती है।
राजस्थान के बिल्डर्स के लिए टोंक से खुश खबर....टोंक में बनास से बजरी खनन शुरू
राजस्थान के बिल्डर्स के लिए टोंक से खुश खबर....टोंक में बनास से बजरी खनन शुरू
करीब चार साल से अधिक समय बाद बनास नदी में शनिवार से फिर से बजरी का वैध खनन शुरू हो गया है। यह खनन 13 महीने 4 चार दिन के लिए होगा। इसके बाद फिर से खनन की लीज सरकार की ओर से जारी की जाएगी। सुुप्रीम कोर्ट की ओर से दी गई स्वीकृति के बाद लीज के लिए स्टाम्प ड्यूट खनिज विभाग में पेश की गई है।
इसके साथ ही भवन निर्माण में लोगों को सस्ती बजरी मिलेगी। जिले में देवली क्षेत्र स्थित बनास नदी में दी गई लीज शुरू होगी। बजरी खनन विभाग की गाइड लाइन के तहत होगा। इसकी पालना को लेकर खनिज विभाग तैयारियां करा रहा है। इससे अवैध खनन पर अंकुश लगेगा। हालांकि अभी भी अवैध खनन की गुंजाइश इस लिए रहेगी कि सम्पूर्ण बनास नदी में खनन की अनमुति नहीं है।
हालांकि खनिज विभाग ने टोंक से गुजर रही बनास नदी में खाइयां खोद दी है, लेकिन अवैध खनन से जुड़े माफिया इसका भी कोई रास्ता निकालने की तैयारी करेंगे। जब तक जिले में अन्य स्थानों पर खनन के आदेश नहीं होते तब तक वहां अवैध खनन की गुंजाइश रहेगी।
ऐसे में यह अवैध खनन प्रशासन और पुलिस के लिए फिर सिर दर्द रहेगा।
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने बनास नदी में चल रहे बजरी खनन पर 16 नवम्बर 2017 को रोक लगा दी थी। राज्य सरकार के आदेश के बाद जिला प्रशासन और पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए खनन पर नियंत्रण किया था, लेकिन अवैध खनन शुरू हो गया और बजरी का भाव कई गुना हो गया। अब देवली और निवाई क्षेत्र में लीज शुरू होने पर 200 फीट बजरी महज 1500 रुपए में मिल जाएगी।
यह है क्षेत्रफल
टोंक जिले से गुजर रही बनास नदी में बजरी खनन की लीज 8 हजार 837.84 हैक्टयेर में दी गई है। इसमें टोंक में 2 हजार 389.36, पीपलू में 3 हजार 342.10, देवली में एक हजार 667.78, टोडारायङ्क्षसह में एक हजार 260.96 तथा उनियारा में 177.64 हैक्टयेर क्षेत्र शामिल है। इसके अलावा बजरी का खनन नहीं किया जा सकता।
स्टाम्प ड्यूटी खनिज विभाग में पेश कर दी गई है। शनिवार से देवली क्षेत्र में बजरी का खनन शुरू होगा। यह खनन गाइड लाइन के तहत ही होगा। इसकी मॉनीटङ्क्षरग की जाएगी।
संजय शर्मा, सहायक अभियंता खनिज विभाग टोंक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.