प्रदेश के किसानों को सरकार देगी सम्बल

प्रदेश में 10 लाख किसानों को दिए जाएंगे नि:शुल्क बीज के किट
जिले में 20 हजार किसान किए चिह्नित
बाजारा का बीज देने की है योजना
जलालुद्दीन खान
टोंक. कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए प्रदेशभर में लगाए गए लॉकडाउन से सभी वर्ग प्रभावित हुआ है। ऐसे में राज्य सरकार ने देश की रीड की हड्डी कहे जाने वाले प्रदेश के किसानों को नि:शुल्क बीज देकर राहत देने की तैयारी की है।

By: jalaluddin khan

Published: 28 May 2020, 08:56 PM IST

प्रदेश के किसानों को सरकार देगी सम्बल
प्रदेश में 10 लाख किसानों को दिए जाएंगे नि:शुल्क बीज के किट
जिले में 20 हजार किसान किए चिह्नित
बाजारा का बीज देने की है योजना
जलालुद्दीन खान
टोंक. कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए प्रदेशभर में लगाए गए लॉकडाउन से सभी वर्ग प्रभावित हुआ है। ऐसे में राज्य सरकार ने देश की रीड की हड्डी कहे जाने वाले प्रदेश के किसानों को नि:शुल्क बीज देकर राहत देने की तैयारी की है।

सरकार ने प्रदेश के 10 लाख किसान चिह्नित किए हैं। जिन्हें खरीफ की फसल के लिए बाजरे के बीज का मिनी किट नि:शुल्क दिया जाएगा। टोंक जिले में ऐसे 20 हजार किसान चिह्नित किए गए हैं। इन किसानों को डेढ़ किलो बाजरा बीज का मिनी किट नि:शुल्क दिया जाएगा।

इसके पीछे सरकार का मानना है कि दो महीने से अधिक समय तक चल रहे लॉकडाउन में प्रदेश के सभी वर्गों की आर्थिक स्थिति गड़बड़ा गई है। ऐसे में प्रदेश के लघु व सीमांत किसानों को नि:शुल्क बाजरा दिया जाएगा, ताकि उन्हें कुछ आर्थिक सहायता मिल सके।

फिलहाल किसानों को बाजरा बीज नि:शुल्क दिया जाएगाा, लेकिन उम्मीद है कि अगले चरण में इन्हेंं अन्य जिंसों के बीज भी सरकार की ओर से नि:शुल्क दिए जाए।


900 रुपए का बाजार में किट
कृषि विभाग के मुताबिक उच्च गुणवत्ता वाले बाजरे के बीज का भाव प्रति किलो 600 रुपए किलो है। राज्य सरकार की ओर से डेढ़ किलो बाजरा बीज का किट नि:शुल्क दिया जाएगा।

इससे प्रत्येक किसानों को 900 रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। सरकार की ओर से किसानों को संकर बाजरा के बीज दिए जाएंगे। टोंक जिले के 10 हजार किसानों को एमपीएच-17 तथा 10 हजार किसानों को एमपीएच- 21 उच्च किस्म के बीज दिए जाएंगे। कृषि विभाग के मुताबिक ये बीज किसान को करीब डेढ़ से दो हैक्टेयर के लिए प्रयाप्त है।


इन जिलों को किया आवंटन
राज्य सरकार ने प्रदेश के 21 जिलों के 10 लाख किसानों को चिह्नित किया है। इसमें अजमेर के 30 हजार, जयपुर के एक लाख 15 हजार, दौसा के 25 हजार, टोंक के 20 हजार, सीकर के 80 हजार, झुंझुनूं के 75 हजार, नागौर के 80 हजार, अलवर के 50 हजार, भरतपुर के 15 हजार, धौलपुर के 10 हजार, सवाईमाधोपुर के 15 हजार, करौली के 10 हजार, बीकानेर के 45 हजार, चुरू के 93 हजार, जैसलमेर के 30 हजार, हनुमानगढ़ के 15 हजार, बाड़मेर के एक लाख 30 हजार, जौधपुर के एक लाख 30 हजार, सिरोही के दो हजार, जालौर के 15 हजार तथा पाली के 15 हजार किसान चिह्नित किए हैं।


घर बैठे देंगे बीज
कृषि विभाग की ओर से चिह्नित किसानों को बाजरा बीज के किट देने के लिए कार्यालय में नहीं बुलाया जाएगा। बल्कि किसानो को उनके घर जाकर बीज का किट दिया जाएगा।

ताकि उन्हें कार्यालय आने तक किसी प्रकार के वाहन का खर्च नहीं उठाना पड़े। कृषि विभाग के मुताबिक जिले में सर्वाधिक बाजरा की खेती मालपुरा तथा निवाई उपखण्ड में की जाती है।

आदेश मिले हैं
किसानों को बाजरा बीज नि:शुल्क देने के आदेश मिले हैं। जल्द ही किसानों तक बाजारा का बीज पहुंचाया जाएगा। इससे किसानों को खेती में कुछ आर्थिक सहायता मिल जाएगी।
- दिनेशकुमार बैरवा, सहायक निदेशक कृषि विस्तार विभाग टोंक

jalaluddin khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned