बेलगाम खनन पर पुलिस-प्रशान मौन, शहर की गलियों में दौड़ रहा बजरी भरे वाहनों का आतंक

बनास नदी में बजरी खनन तथा परिवहन पर अंकुश लगाने के लिए भले ही जिलेभर में कार्रवाई की जा रही हो, लेकिन जिला मुख्यालय पर बजरी से भर कर दौड़ रहे वाहन ना तो सीसीटीवी कैमरे में आ रहे हैं और ना ही पुलिस तथा अधिकारियों को नजर आ रहे हैं।

By: pawan sharma

Published: 01 Mar 2020, 10:08 AM IST

टोंक. बनास नदी में बजरी खनन तथा परिवहन पर अंकुश लगाने के लिए भले ही जिलेभर में कार्रवाई की जा रही हो, लेकिन जिला मुख्यालय पर बजरी से भर कर दौड़ रहे वाहन ना तो सीसीटीवी कैमरे में आ रहे हैं और ना ही पुलिस तथा अधिकारियों को नजर आ रहे हैं। सुबह का आलम तो ये कि इन वाहनों की गति को देखकर लोग इधर-उधर हो जाते हैं। कईलोग चोटिल भी हो चुके हैं।

कई दुकानों का सामान भी टूट चुका है, लेकिन ये वाहन पकड़ में नहीं आ रहे हैं। बल्कि घनी आबादी के बीच से दौड़ रहे हैं। जबकि शहर में तीन थाने तथा चार चौकियों समेत मुख्य मार्गों पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। जिला मुख्यालय पर सर्वाधिक बजरी से भरे वाहन सिविल लाइन रोड पर दौड़ते हैं। बनास नदी से महादेववाली, सौलंगपुरा, शंकरपुरा चौराहा व तालकटोरा मार्ग पर सुबह 5 से 8 बजे तक बजरी से भरे वाहनों की कतारें लगी रहती है। लोगों ने इनकी शिकायतें भी की, लेकिन कार्रवाईअब तक नहीं हुई।

पलटते-पलटते बची ट्रैक्टर-ट्रॉली
सिविल लाइन रोड पर मामू-भांजे की दरगाह के सामने सुबह बजरी से भरे ट्रैक्टर-ट्रॉली की कतार लगती है। इनकी गति काफी तेज होती है। एक ट्रैक्टर-ट्रॉली तो दरगाह के सामने बेक्रर पर काफी उछली और पलटते-पलटते बची। इससे सडक़ पर बजरी फैल गई। गनीमत रही कि इस दौरान मार्ग पर कोईअन्य वाहन नहीं था। नहीं तो बड़ा हादसा हो सकता है।

लग सकती है रोक
पुलिस व प्रशासन चाहे तो बजरी खनन पर अंकुश सीसीटीवी फुटेज के आधार पर ही लगा सकता है। हालांकि कईट्रैक्टर-ट्रॉली पर नम्बर लिखे नहीं होते, लेकिन फुटेज के आधार पर चालक की पहचान की जा सकती है। जबकि ताल ककटोरा, गांधी खेल मैदान सर्कल तथा सिविल लाइन में सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं। वहीं घरों तथा दुकानों पर भी कैमरे लगे हैं, लेकिन प्रशासन ने कभी इनकी मदद नहीं ली। इससे बजरी से भरे वाहनों पर अंकुश नहीं लग रहा है।

बाल-बाल बच गया
सुबह के समय बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली तेज गति से गुजरती है। एक के बाद दर्जन भर होती है। तेज गति के चलते जब ट्रैक्टर-ट्रॉली बे्रकर पर उछली तो बजरी सडक़ तथा आस-पास बिखरी। ऐसे में गिरने से बाल-बाल बच गया।
- सय्यद अली, स्थानीय निवासी

काउंटर टूट गया
ताल कटोरा मार्ग पर सुबह दर्जन भर ट्रैक्टर-ट्रॉली बजरी से भरकर गुजरती है। ट्रैक्टर-ट्रॉली के टायर के नीचे आए पत्थर दुकान पर रखा काउंटर टूट गया। पुलिस व प्रशासन इस ओर कभी कार्रवाई नहीं करता है। इस मार्ग के दुकानदार डरे हुए हैं।
- सईद मियां, दुकानदार

विद्यार्थीतथा राहगीर परेशान
इस मार्ग से गुजरने वाले विद्यार्थीतथा राहगीर ट्रैक्टर-ट्रॉली से परेशान हैं। इनकी तेज गति के चलते कभी भी हादसा हो सकता है। ट्रैक्टर-ट्रॉली से गिरने वाली बजरी सडक़ पर बिखरती रहती है। इससे दुपहिया वाहन फिसलते रहते हैं।
- हफीज मियां, दुकानदार

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned