बनास नदी में पुलिस को देख बजरी माफिया भागे, पांच ट्रॉलियां की जब्त

खाली ट्रॉलियों में मिले गोबर की खाद व पीली मिट्टी के साथ बजरी के अंश

By: Vijay

Published: 29 Oct 2020, 10:01 PM IST



राजमहल. बनास नदी के राजमहल व बोटून्दा गांव के बीच गुरुवार को बजरी खनन की सूचना पर पहुंची दूनी पुलिस को देखकर बजरी माफिया ने ट्रॉलियों को खाली करने के साथ ही ट्रैक्टर लेकर मौके से फरार हो गए। वहीं खाली ट्रॉलियों को नदी के बीच छोड़ गऐ। ट्रॉलियां छोडऩे की सूचना पर दूनी थानाधिकारी नाहर सिंह ने मौके पर पहुंच कर सभी लगभग पांच ट्रॉलियों को जब्त कर दूनी थाने में रखवाया है, जिसमें किसी में गोबर की खाद तो किसी में पीली मिट्टी व किसी में बजरी के अंश मिले है, जिस पर दूनी थाना पुलिस ने ट्रॉलियां जब् कर जांच शुरू कर दी है।
थानाधिकारी से
पहले ही फरार
बनास में पेटाकास्त करने वाले लोगों ने बताया कि बनास नदी में बजरी भरने के लिए कई ट्रैक्टरों की कतार लगी थी, लेकिन पुलिस के आने सूचना के बाद माफिया में अफरा तफरी तच गई, जिस पर कई ट्रैक्टर चालक पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए, जिससे वो कार्रवाई से बच गए। शेष सभी ट्रॉलियां बनास में पेटाकास्त की बाडि़य़ों के करीब खड़ी मिली, जिनमें कुछ ट्रॉलियों में बजरी के अंश पाए गए है, जिससे बजरी खनन की आंशका को लेकर सभी को जब्त कर कार्रवाई के साथ ही जांच शुरू कर दी गई है।
बनास नदी में एसआईटी ने खुदवाई खाई
निवाई. बनास नदी में अवैध बजरी खनन, परिवहन और भण्डारण पर रोकथाम के लिए गुरुवार को एसआईटी ने विभिन्न गांवों का दौरा कर जेसीबी से बनास नदी में जाने वाले रास्ते कटवाएं। बरोनी थानाधिकारी कैलाश विश्नोई ने बताया कि गुरुवार को एसआईटी ने गांव सोहेला, जेबडिया, कंकराज, हालीकलां, खेडूल्या, गहलोद, सईदाबाद सहित विभिन्न गांवों का दौरा किया गया। और बनास नदी में अवैध खनन के लिए बजरी माफि या द्वारा बनाए गए कच्चे रास्तों को जेसीबी से कटवा गया। साथ ही आस-पास के ग्रामीणों बताया गया कि इन काटे हुए रास्तों को दुबारा भरने की कोशिश की गई तो उनके विरुद्ध एसआईटी नियमानुसार कार्यवाही करेंगी। ए.सं.

Vijay Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned