‘खुशियों की दुकान ’ से जरूरतमंद लोगों की आवश्कता होगी पूरी

जरूरतमंद लोगों को अपने दैनिक जीवन में काम आने वाली वस्तुएं अब एक ही छत के नीचे मिल सकेगी। इसके लिए स्वायत्त शासन विभाग ने नगर परिषद आयुक्त व निकायों के अधिशाषी अधिकारियों पत्र जारी कर अपने-अपने क्षेत्र के आश्रय स्थलों पर बीइंग मानव ‘खुशियों की दुकान ’ शुरू करने के आदेश दिए है।

By: pawan sharma

Published: 26 Feb 2021, 04:36 PM IST

टोंक. जरूरतमंद लोगों को अपने दैनिक जीवन में काम आने वाली वस्तुएं अब एक ही छत के नीचे मिल सकेगी। इसके लिए स्वायत्त शासन विभाग ने नगर परिषद आयुक्त व निकायों के अधिशाषी अधिकारियों पत्र जारी कर अपने-अपने क्षेत्र के आश्रय स्थलों पर बीइंग मानव ‘खुशियों की दुकान ’ शुरू करने के आदेश दिए है। जिला परियोजना अधिकारी नगर परिषद टोंक के मोहम्मद उमर खान ने बताया कि स्वायत्त शासन विभाग की ओर से मिले पत्र के अनुसार बीइंग मानव ‘खुशियों की दुकान ’ खोलने के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है।

खान ने बताया कि नगर परिषद के फायर स्टेशन स्थित आश्रय स्थल पर जगह का चयन कर लिया गया है। खान ने बताया कि आश्रय स्थल पर 5 से लेकर 20 फीट तक की जगह में खुशियों की दुकान संचालित की जाएगी। खुशियों की दुकान से जरूरतमंद लोग अपने आवश्यकता अनुसार वस्तुएं ले सकेंगे जो उन्हें नि:शुल्क मिलेगी।

विभागीय आदेश के अनुसार खुशियों की दुकान के सफल संचालन के आश्रय स्थल के प्रबंधक को ही नोडल अधिकारी के रूप में नियुक्त किया जाएगा। खान ने शहर के लोगों से खुशियों की दुकान में अतिरिक्त वस्तुएं दान देने के लिए कहा है। उन्होंने बताया कि जिनके घरों पर अतिरिक्त वस्तुएं पड़ी हैं और वे उनका उपयोग नहीं कर पाते उन वस्तुओं को दूसरे जरूरतमंद लोग उपयोग कर पाएं इसके लिए खुशियों की दुकान खोली जा रही है।

लोग यहां पर सामान्य कपडे, ऊनी कपड़े , बर्तन, खिलौने, स्टेशनरी, पुस्तकें आदि दान दे सकते है, जो जरूरतमंद लोगों को आवश्यकतानुसार उपलब्ध हो सकेगी। खुशयों की दुकान में वस्तुएं देने व लेने वाले दोनों तरह के लोगों के नामों का भी संधारण किया जाएगा।

डॉ. अभिशेखर वाद्य ब्रह्म नाद पुरस्कार से सम्मानित
वनस्थली. संगीत किसलय संस्था की ओर से जोधपुर में आयोजित अखिल भारतीय ब्रह्म नाद प्रतियोगिता में देशभर से 350 प्रतिभागियों ने भाग लिया।जिसमे गायन वादन नृत्य संगीत की विविध विधाओं का प्रदर्शन किया गया। प्रतियोगिता में 70 कलाकारों को बह्म नाद पुरस्कार प्रदान किया गया। वनस्थली निवासी डॉ. अभिशेखर शर्मा को बांसुरी वादन श्रेणी में वाद्य बह्म नाद पुरस्कार प्रदान किया गया।डॉ.शर्मा पहले भी राष्ट्रीय स्तर पर स्वर्ण पदक प्राप्त कर चुके है।वर्तमान में डॉ. शर्मा निजी महाविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफ्रेसर के पद पर कार्यरत है।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned