बिना किताब, बिना शिक्षक , कैसे हो पढ़ाई?

राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षा विभाग की ओर से अभी तक पाठ्य पुस्तकें उपलब्ध नहीं कराई गई है। साथ ही अध्यापकों की कमी होने से पढ़ाई भी नहीं हो पा रही है।

By: pawan sharma

Updated: 20 Feb 2021, 06:15 PM IST

लाम्बाहरिसिंह. कस्बे समेत क्षेत्र के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षा विभाग की ओर से अभी तक पाठ्य पुस्तकें उपलब्ध नहीं कराई गई है। साथ ही अध्यापकों की कमी होने से पढ़ाई भी नहीं हो पा रही है। अध्यापकों के पद रिक्त पड़े होने से विद्या र्थियों को स्वयं अध्ययन करना पड़ रहा है। कस्बे समेत क्षेत्र की राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में हालात सुधरे नहीं है।

कस्बे की राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में रसायन विज्ञान, भूगोल, हिन्दी, अंग्रेजी विषय प्राध्यापक व अंग्रेजी लेवल प्रथम समेत अन्य छह पद रिक्त है। राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में हिन्दी व अंग्रेजी विषय प्राध्यापक,लेवल प्रथम सामाजिक विज्ञान समेत अन्य पद रिक्त पड़े है। इसी प्रकार सांसद आदर्श गांव रह चुके कांटोली व सीएम आदर्श गांव मोरला समेत उनियाराखुर्द, संवारिया, देवल, झाड़ली,आंटोली गांवों की राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में स्वीकृत अध्यापकों के पद रिक्त पड़े हैं।


इनमें नहीं बंटी पुस्तकें
कस्बे समेत क्षेत्र के संवारिया, देवल, झाड़ली, आंटोली, कांटोली, मोरला गांवों की राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों के माध्यमिक व उच्च माध्यमिक कक्षाओं में अध्ययनरत विद्यार्थियों को शत-प्रतिशत किताबें वितरित नहीं की गई है। इसमें मोरला व आंटोली विद्यालयों में कक्षा ग्यारह में अध्ययनरत दस-दस विद्यार्थियों व झाड़ली विद्यालय में आधे विद्यार्थियों को इतिहास विषय व देवल में राजनैतिक विज्ञान, भूगोल विषय एक भी किताब नहीं दी गई है।

कक्षा ग्यारह व बारह में भूगोल व विज्ञान विषयों की प्रायोगिक पुस्तकें नहीं आने से विद्यार्थियों को खासा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं कस्बे में राजकीय बालिका विद्यालय में प्रधानाचार्य स्वयं के खर्च से विद्यार्थियों को किताबें वितरण की गई है।

नामांकन बढ़ा
गत वर्ष की तुलना में इस बार विद्यालयों में नामांकन बढ़ा है। मोरला विद्यालय में नामांकन कम हुआ है। कस्बे में राउमा विद्यालय में छह प्रतिशत, राबाउमा विद्यालय में साढ़े छह प्रतिशत, संवारिया राउमा विद्यालय में बीस प्रतिशत, कांटोली गांव के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में आठ प्रतिशत, देवल गांव में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में पांच प्रतिशत, झाड़ली गांव में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में गत वर्ष की तुलना में इस बार दो प्रतिशत नामांकन बढ़ा है।

Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned