क्षेत्र में अवैध खनन जोरों पर

क्षेत्र में अवैध खनन जोरों पर
tonk

Mukesh Kumar Sharma | Publish: Feb, 09 2016 11:05:00 PM (IST) Tonk, Rajasthan, India

क्षेत्र में प्रशासनिक अनदेखी के चलते सरकारी जमीन, नदी, एनिकट पेटे में अवैध तरीके से खनन किया जा

पीपलू।क्षेत्र में प्रशासनिक अनदेखी के चलते सरकारी जमीन, नदी, एनिकट पेटे में अवैध तरीके से खनन किया जा रहा है। हालात ये है कि इससे संदेड़ा गांव के एनिकट की नींव ही खोखली हो गई। उल्लेखनीय है कि क्षेत्र की पेयजल समस्या के निराकरण को लेकर भोपता नाले को रोककर सवा करोड़ की लागत से संदेड़ा में दस साल पहले एनिकट बनाया गया था। इसमें बारिश का पानी रुकने से आसपास के कुओं का जलस्तर भी बढ़ा था।

संग्रहित जल का उपयोग क्षेत्र के किसान सिंचाई करने तथा मवेशियों को पानी पिलाने में करते थे, लेकिन इन दिनों खनन माफिया इस एनिकट के पेटे तथा सुरक्षा दीवार के पास बारूदी विस्फोट से बिना लीज के पत्थर खनन कर रहे हैं। इससे एनिकट की नींव खोखली हुई है। यहां पन्द्रह से बीस फीट की गहराई तक पत्थर खनन किया जा चुका है। बारूदी विस्फोट से उछलकर गिरने वाले पत्थर के टुकड़े पास ही आबादी क्षेत्र में गिरते हैं।

इससे हादसे की आशंका रहती है। खनन क्षेत्र से 100 मीटर दूरी पर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय है। धमाकों की आवाज के चलते अध्ययन भी प्रभावित हो रहा है। यह खनन चरागाह के रास्ते पर होने से मवेशियों के भी हादसे की चपेट में आने की आशंका बनी हुई है।

इसी तरह डोडवाड़ी, जंवाली के जंगल में भी पत्थर खनन किया जा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि उन्होंने इस बारे में उपखण्ड अधिकारी, तहसीलदार व जिला कलक्टर समेत खनिज, पुलिस महकमें को कई बार अवगत कराया, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई।  

उनका कहना था कि क्षेत्र में किसी के पास बारूदी विस्फोटक का लाइसेंस नहीं है। इसके बावजूद नागौर जिले के नम्बरों का एक ट्रैक्टर चालक पत्थर में कम्प्रेशर से ड्रील करके डायनामाइट छड़ व बारूद भरकर टोटे लगाता है। जिससे पत्थर का खनन हो जाता है। खनन से पहले माफिया उसे सूचना देकर बुलाते हैं। वह विस्फोट करके चला जाता है।

कार्रवाई के निर्देश दिए हैं

 क्षेत्र में अवैध खनन होने की सूचना पर खनिज विभाग के अभियंता को कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। बी. एम. नोगिया,  उपखण्ड अधिकारी पीपलू।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned