उनियारा क्षेत्र के बांधों में पानी की आवक जारी, भूमिगत जलस्तर में होने लगा सुधार

उनियारा क्षेत्र के बांधों में पानी की आवक जारी, भूमिगत जलस्तर में होने लगा सुधार

Vijay Kumar Jain | Publish: Sep, 10 2018 11:34:27 AM (IST) Tonk, Rajasthan, India

कस्बे सहित उपखण्ड क्षेत्र में लगातार हो रही बरसात से बांधों में पानी की आवक हुई है।

 

उनियारा. कस्बे सहित उपखण्ड क्षेत्र में लगातार हो रही बरसात से बांधों में पानी की आवक हुई है। क्षेत्र में रविवार को भी सुबह से ही हल्की से मध्यम दर्जे की बरसात हुई। इससे पूर्व शनिवार को भी सुबह से ही देर रात तक रुक-रुककर बरसात का दौर चलता रहा, जो पूरी रात जारी रहा।

 

इधर, बाढ़ नियत्रण कक्ष के अनुसार गलवा बांध में 3 इंच पानी की आवक होने से जलस्तर 12.8 फीट, गलवानिया बांध में 1.9 फीट की आवक होने से जलस्तर 10.6 फीट, श्योदानपुरा में 2.7 फीट की आवक होने से जलस्तर 6 फीट, ठिकरिया में 55 सेमी की आवक से जलस्तर 3.30 मीटर तथा कुम्हारिया बांध में 50 सेमी आवक होने से जलस्तर बढकऱ 2.15 मीटर हो गया। जबकि दूधीसागर में 9 फीट पूरी तरह लबालब हो गया।


बांध में आया 6 सेमी पानी
राजमहल. लगातार बरसात के चलते बीसलपुर बांध में 6 सेमी पानी की आवक हुई है। बांध का गेज शनिवार सुबह 309.26 आरएल मीटर था, जो रविवार सुबह 309.32 आरएल मीटर हो गया। बांध क्षेत्र में गत 24 घंटों में 52 एमएम बारिश दर्ज की गई। इस साल अब तक 387 एमएम बारिश दर्ज की जा चुकी है।


बारिश से मौसम हुआ सुहावना
अलीगढ़. क्षेत्र में पिछले पांच दिन रुक-रुक कर कभी तेज तो कभी रिमझिम बारिश का दौर जारी रहने से मौसम सुहावना हो गया। बारिश से चौरू तालाब लबालब हो गया। पचाला के रिजोदा तालाब, बामनियां तालाब सहित अन्य बांधों व तालाबों व एनिकटों में पानी की आवक जारी है।

 

साथ ही भूमिगत जलस्तर में सुधार होने लगा। एसडीओ कैलाश चंद गुर्जर ने बताया कि ठिकरिया बांध में 50 एमएम, गलवानियां बांध में 40 एमएम, गलवा बांध में 9 एमएम बारिश हुई है। वहीं दूधीसागर बांध में 9 फीट, श्योदानपुरा बांध में 6 फीट तथा कुम्हारिया बांध में 2.15 मीटर पानी की आवक हुई।

 

आधा दर्जन कच्चे मकान ढहे
लाम्बाहरिसिंह. कस्बे समेत क्षेत्र के गांवों में बरसात के दौरान आधा दर्जन कच्चे मकान ढह गए। कस्बे में रामनारायण माली का कच्चा मकान ढह गया। इससे टीवी, पंखे, अनाज समेत अन्य घरेलू सामान मलबे में दब गया।

 

सूचना पर पहुंचे सरपंच मुकेश माली समेत अन्य ग्रामीणों ने दबे सामान को बाहर निकाला। सरपंच माली ने बताया कि पीडि़त के कच्चे कमरे ढहने से पड़ोसी के घर सामान रखवा वैकल्पिक व्यवस्था की है। इसी प्रकार देवल गांव में कच्चा मकान ढह गया, ग्रामीण रामवतार रैगर ने बताया कि गलकू रैगर का कच्चा मकान ढह गया।वहीं दड़ावट गांव में चार कच्चे मकान ढह गए। जनहानि नहीं होने से बड़ा हादसा टल गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned