video: निवाई के मायला कुण्ड के जीर्णोद्धार की लागत 15 गुना, मामले में पालिकाध्यक्ष व एक अन्य पर एसीबी में चल रही जांच

Pawan Kumar Sharma | Publish: Aug, 12 2018 10:01:33 AM (IST) Tonk, Rajasthan, India

करीब तीन वर्ष पूर्व इस कुण्ड की सफाई पालिका ने मात्र बीस हजार रुपए में कराई थी। उस समय कुण्ड की पूर्ण रूप से सफाई की गई थी तथा पानी में कई महीनों तक काई नहीं आई थी।

 

निवाई. निवाई में गत वर्ष नगर पालिका की ओर से ऐतिहासिक मायला कुण्ड के जीर्णोद्धार के लिए तीन लाख रुपए से अधिक खर्च किए गए, लेकिन इसकी हालत देख कर स्थिति जस की तस लगती है।

 

जबकि करीब तीन वर्ष पूर्व इस कुण्ड की सफाई पालिका ने मात्र बीस हजार रुपए में कराई थी। कुण्ड में फैली गंदगी एवं जर्जर दीवारेंं खुद ही इसकी स्थिति बयां कर रही हंै। जानकारी अनुसार पालिका निवाई ने 13 जुलाई 2017 को मायला कुण्ड की सफाई एवं मरम्मत कार्य के लिए तीन लाख 12 हजार रुपए की निविदा जारी की थी।

 

निविदा के तहत कुण्ड की फिनिशिंग किए जाने के साथ ही वाटर प्रूफ सीमेन्ट का उपयोग, 20 एमएम साइज का प्लस्तर सहित सीमेन्ट पेंट आदि कार्य शामिल है। मायला कुण्ड पर भले ही दीवारों पर प्लस्तर नजर आ रहा है, लेकिन पानी में काई छाई हुई है।

 

लोगों द्वारा भी इसमें गंदगी डाली हुई है। पुजारी जितेन्द्र पाराशर ने बताया कि विगत माह में ठेकेदार द्वारा इसकी सफाई कर मलबा निकाला गया था। दीवारों पर पेंट नजर नहीं आ रहा है। रेलिंग लगाए जाने की गुहार की गई थी, तब आश्वासन मिला था, लेकिन लगाई नहीं।

 

इधर, कनिष्ठ अभियंता देशराज का कहना है कि उन्हें पालिका में कार्यभार ग्रहण किए दो-ढाई महीन हुए हैं। मायला कुण्ड पर हुए कार्य के बारे में सुना जरूर है, लेकिन अभी तक मौके पर जा नहीं पाया।

 

तीन साल पहले 20 हजार में सफाई
नगर पालिका निवाई की ओर से मई 2015 में भी मायला कुण्ड की सफाई कराई गई थी। इसके लिए मात्र 19 हजार आठ सौ रुपए की निविदा जारी की गई थी।

 

उस समय कुण्ड की पूर्ण रूप से सफाई की गई थी तथा पानी में कई महीनों तक काई नहीं आई थी। कुण्ड पर आए पार्षद पारस एवं आरिफ कुरेशी ने बताया कि जीर्णोद्धार कार्य में नगरपालिका ने लीपापोती की है, जिसकी शिकायत भी उच्चाधिकारियों को की जा चुकी है।

 

एसीबी में चल रही जांच
गत दिनों निवाई के दो जनों की ओर से मायला कुण्ड सहित अन्य कार्यों में भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर एसीबी में शिकायत भी की गई, जिसमें पालिकाध्यक्ष राजकुमारी शर्मा एवं एक अन्य अधिशासी अधिकारी पर विभिन्न आरोप भी लगाए गए हैं, जिसकी एसीबी द्वारा जांच की जा रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned