कृष्ण जन्मष्टमी पर मंदिरो में सजाई सजीव झांकीया ।

कृष्ण जन्मष्टमी पर मंदिरो में सजाई सजीव झांकीया ।

Vijay Kumar Jain | Publish: Sep, 04 2018 11:11:31 AM (IST) Tonk, Rajasthan, India

मंदिर व संस्थानों में भगवान की लीलाओं का सजीव मंचन किया गया। दिनभर ‘हाथी-घोड़ा पालकी, जय कन्हैयालाल की’ समेत अन्य जयकारे गूंजते रहे।


टोंक. जिलेभर में सोमवार को भगवान कृष्ण की जन्माष्टमी मनाई गई। इसके तहत मंदिरों में सजावट की गई। मंदिर व संस्थानों में भगवान की लीलाओं का सजीव मंचन किया गया।

 

दिनभर ‘हाथी-घोड़ा पालकी, जय कन्हैयालाल की’ समेत अन्य जयकारे गूंजते रहे। इधर, शहर के सन शाइन ग्लोबल स्कूल में कृष्ण जन्माष्टमी पर महोत्सव का आयोजन हुआ। इसकी शुरुआत नगर परिषद सभापति लक्ष्मीदेवी जैन ने दीप जलाकर की। उन्होंने भगवान की कृष्ण की लीलाओं के बारे में बताया। स्कूल के विद्यार्थियों ने कृष्ण की विभिन्न लीलाओं का सजीव मंचन किया।

 

इस दौरान स्कूल निदेशक विशाल श्रीवास्तव, प्राचार्यकामिनी, विशाल शर्मा, अंजना जैन, गणेश शर्मा, हैदर खान, नगमा आदि मौजूद थे। इसी प्रकार विकास पब्लिक स्कूल में जन्माष्टमी मनाई गई। यह जानकारी संचालक श्योजीलाल यादव ने दी।

 


निवाई. शहर के आराध्य श्रीश्याम बाबा मंदिर में कृष्ण जन्माष्टमी पर छप्पन भोग की झांकी सजाई गई। मन्दिर समिति अध्यक्ष रवि अग्रवाल ने बताया कि श्याम बाबा की कोलकाता के फूलों से शृंगार कर झांकी सजाई गई। मंदिर को वृन्दावन के प्रेम मंदिर की तर्ज पर इलेक्ट्रॉनिक लाइट से सजाया गया।

 

अद्र्धरात्रि को महाआरती की गई। भगवान कृष्ण के जन्म के पश्चात आतिशबाजी की गई। भगवान चारभुजा नाथ, राधा गोपीनाथ मंदिर, नया मंदिर व कृषि मंडी स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर में विशेष आयोजन हुआ।

 

बस स्टैण्ड वाले बालाजी, श्री राम-लक्ष्मण मंदिर, कारखाने वाले बालाजी मंदिर, गोविन्द देवजी मंदिर, श्रीराधादामोदर मंदिर बाहरला कुण्ड, श्रीगौरीशंकर महादेव मंदिर, मुरली मनोहर मंदिर, कंकाली माता मंदिर, टीलेश्वर महादेव मंदिर, नबर्देश्वर महादेव मंदिर, लक्ष्मीनाथ मंदिर, श्रीचिंताहरण गणेश मंदिर में भगवान का अभिषेक कर पूजा-अर्चना की गई।

देवली. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर सोमवार को शहर के मन्दिरों में भगवान की झांकियां सजाई गई। सुबह से मन्दिरों में समितियों व पुजारियों की ओर से तैयारियां की गई। भगवान की प्रतिमाओं की फूलों व नई पोशाकों से झांकी सजाई गई। फूलों की सजावट से देवालय सुगंधित हो गए।

 

इस दौरान बस स्टैण्ड स्थित पंचमुख बालाजी, नीलकंठ शिव मन्दिर, गायत्री माता मन्दिर, सार्वजनिक गौशाला, बावड़ी बालाजी, लक्ष्मीनारायण मन्दिर, गंगागुरिया बालाजी, नेकचाल बालाजी, एजेंसी में गोपालजी का मन्दिर, चिन्ताहरण, पेट्रोल पम्प स्थित मन्दिरों में भगवान की झांकियां सजाई गई।

 

सीआईएसएफ बल परिसर में सजाई गई झांकियां श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केन्द्र रही। लोगों ने व्रत-उपवास रखे, घरों में लड्डू गोपाल को नए वस्त्र पहनाए। रात 12 बजे मन्दिरों व घरों में भगवान के जन्म के साथ आरती की गई।

 

खीर, पंचामृत व पंजीरी का भोग लगाया। देर रात लोगों ने उपवास खोले। जन्माष्टमी पर ग्वाला समाज ने शहर में शोभायात्रा निकाली। भगवान बेवाड़ में शहर भ्रमण पर निकले। लोग नाचते-गाते चल रहे थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned