पेड-पौधों के बिना जीवन अधूरा- मीणा

अहमदपुरा चौकी में हुआ आयोजन
ग्रामीणों को संकल्प भी दिलाया
पेड- पौधों के बिना जीवन अधूरा- मीणा
टोंक. राजस्थान पत्रिका के हरियाळो राजस्थान अभियान से प्रेरित होकर अहमदपुरा चौकी गांव में पौध रोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें ग्रामीणों ने राजकीय अस्पताल तथा स्कूल समेत अन्य सार्वजनिक स्थानों पर विभिन्न किस्मों के दर्जनों पौधे लगाए।

By: jalaluddin khan

Published: 18 Sep 2021, 09:24 PM IST

पेड-पौधों के बिना जीवन अधूरा- मीणा
अहमदपुरा चौकी में हुआ आयोजन
ग्रामीणों को संकल्प भी दिलाया
पेड- पौधों के बिना जीवन अधूरा- मीणा
टोंक. राजस्थान पत्रिका के हरियाळो राजस्थान अभियान से प्रेरित होकर अहमदपुरा चौकी गांव में पौध रोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें ग्रामीणों ने राजकीय अस्पताल तथा स्कूल समेत अन्य सार्वजनिक स्थानों पर विभिन्न किस्मों के दर्जनों पौधे लगाए।


कार्यक्रम में मुख्य अतिथि जिला परिषद की सदस्य रही कैलाशी देवी मीणा ने कहा कि पेड़-पौधे बिना जीवन अधूरा है। हरियाली से जहां धरती का शृंगार है, वहीं यह जीवन के जरूरी है। ऐसे में सभी को हर साल एक पौधा जरूर लगाना चाहिए।


मीणा समाज के ब्लॉक अध्यक्ष तुलसीराम मीणा ने कहा कि सभी को यह संकल्प लेना चाहिए कि वह अपने जन्म दिन और हर मांगलिक कार्यक्रम पर एक पौधा जरूर लगाए। साथ ही उसकी देखरेख करे।


इससे हम पर्यावरण को बढ़ावा और धरती को सुंदर बना पाएंगे। कार्यक्रम में जिला डेयरी सदस्य मंशाराम मीना, बुद्धि प्रकाश, डॉ. राकेश गुर्जर, डॉ. बद्धीप्रकाश चौधरी, मनिषा गुर्जर, विनोद टेलर, शैतान, कपिल गुप्ता, सीताराम राणा, जमील, ममता आदि लोगों ने पौधे लगाए।


राजमहल. कोरोना संक्रमण को लेकर लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए करोड़ों की लागत पर चलाई गई घर-घर औषधि योजना कई जगहों पर पंचायत प्रशासन की उदासीनता तो कई जगहों पर लोगों में जागरुकता की कमी के चलते योजना वन नाकों तक दम तोड़ती नजर आ रही है।

वन विभाग की ओर से भले ही वन नाकों में नर्सरी लगाकर काल मेघ, तुलसी, अश्वगंधा, नीम गिलाई जैसे औषधिय पौधों को अकुंरित कर पौध तैयार कर लिए, लेकिन पंचायत प्रशासनों की उदासीनता कहे या अनदेखी बारिश का मानसून सत्र बीतने के करीब पहुंचने के बाद भी अब तक कई पंचायतों में घर-घर औषधि वितरण योजना के तहत पौध वितरण नहीं हो पाया है।


ऐसा ही नजारा राजमहल वन नाके का है, जहां योजना के तहत लगभग उक्त किस्मों के 53 हजार पौध तैयार किए गए थे। वहीं योजना के तहत करीब डेढ़ माह पूर्व से पौध वितरण का कार्य जारी है, जिसमें अब तक करीब 30 हजार पौधे वितरित भी किए जा चुके है। वहीं वन नाके की करीबी पंचायतों में अभी लोगों को पौध वितरण तक नहीं हो पाया है। वन नाके के करीब राजमहल, देवीखेड़ा, कासीर पंचायतों में पौध वितरण की शुरूआत तक नहीं हो पाई है। जिससे अभी भी 23 हजार पौधे वन नाके में वितरण का इंतजार कर रहे है।

jalaluddin khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned