टोंक के सौ फीसदी लक्ष्य में मालपुरा बना बाधा

घर-घर औषधि योजना

3084 घरों में नहीं पहुंचे पौधे

By: Vijay

Published: 26 Sep 2021, 06:10 PM IST


टोंक. राज्य सरकार की हर घर को औषधि पौधे युक्त बनाए जाने की योजना में किट का अभाव बना हुआ है। जिले में कुल लक्ष्य पूरा करने में मालपुरा पंचायत समिति की कुछ पंचायतें बाधा बनी हुई है, ऐसे में अभी तक सौ फीसदी लक्ष्य हासिल नहीं हो पाया है।
वन विभाग के अनुसार जिले में पीपलू में दस हजार, टोंक में बीस हजार, निवाई में बाइस हजार, उनियारा मे सत्रह हजार, देवली में २८ हजार७७५, बीसलपुर में १५ हजार, एवं मालपुरा में बीस हजार पौधे घर-घर वितरित किए जाने थे। योजना के तहत प्रत्येक घर में नीम गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी व कालमेघ के पौधे कीट में वितरित किए जाने थे।इस तरह जिले में एक लाख ३२ हजार ७७५ घरों में पौधे वितरित किए जाने का लक्ष्य तय किया गया था। इनमें से अभी तक एक लाख २९ हजार ६९१ घरों में पौधे पहुंचाएं जा चुके है। योजना के तहत पौधे वन विभाग को स्वयं की नर्सरी के माध्यम से उपलब्ध कराने थे एवं पौधे वितरित करने के काम आने वाले किट, साधन व श्रमिक संबंधित ग्राम पंचायत, पंचायत समिति या नगर निकाय को उपलब्ध करवाए जाने थे। जिले में मालपुरा को छोड़ अन्य सभी उपखण्डों में लक्ष्य वितरित किए जा चुके है।

मानसून गुजरा
प्रदेश में घर-घर औषधि योजना की शुरुआत मुख्यमंत्री ने पांच जुलाई २०२१ को की थी। ऐसे में मानसून के दौरान ही सभी गांवों के घरों में चारों प्रजातियों के पौधे पहुंचाने थे, लेकिन मालपुरा पंचायत क्षेत्र की करीब आधा दर्जन से अधिक ग्राम पंचायतों के ३०८४ घरों में १२ हजार ३३६ पौधे अब तक नहीं पहुंच पाए है।

विभाग की नर्सरी में पौधे तैयार है। विकास अधिकारी की ओर से किट नहीं मिल पाए है। जैसे ही किट मिल जाएंगे शेष परिवारों को भी निर्धारित पौधे उपलब्ध करवा दिए जाएंगे।
हरेन्द्र सिंह, रेंजर, मालपुरा


वन विभाग की ओर से पूर्व में दिया गया लक्ष्य करीब एक पखवाड़ा पूर्व ही पूरा कर लिया गया था। पुन: लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ऐसे में किट की व्यवस्था की गई है। एक-दो दिन में शेष परिवारों को भी पौधे वितरित कर दिए जाएंगे।
सतपाल, विकास अधिकारी, मालपुरा

Vijay Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned