आओ गांव चलें- बारिश में पंचायत मुख्यालय से कट जाता है कई गांवों का सम्पर्क

राजमार्ग से ढाई किलोमीटर अंदर देवड़ावास कस्बा एवं इससे जुड़े गांव-ढाणी आज भी विभिन्न मुलभूत सुविधाओं को तरस रहे है। इससे भी अधिक हैरत की बात है की बारिश के समय तो क्षतिग्रस्त सडक़ों के कारण से करणा का बांस, खात्याहाली मजरा ढाणी एवं सरकावास गांव का सम्पर्क पंचायत मुख्यालय से कट जाता है।

By: pawan sharma

Updated: 07 Apr 2021, 07:30 AM IST

दूनी. तहसील के देवड़ावास पंचायत मुख्यालय के लोग खेती-बाड़ी एवं पशुपालन से जुड़े हुए है। यहा के जनप्रतिनिधि, कर्मचारी एवं शिक्षित लोगों ने कोरोना काल में लोगों के जेहन से महामारी की भयावह स्थिति को कमजोर कर दिनचर्या में बदलाव लेकर आए है। अब लोग मास्क भी लगाने लगे है तो सोशल डिस्टेंस भी रखने लगे है।

हालांकि सरकार के अलग-अलग विभागों के गैर-जिम्मेदाराना रवैये के चलते आमजन को मुलभूत सुविधाएं नहीं मिल पा रही है और उन्हें सडक़, चिकित्सा, बिजली सहित अन्य छोटी-छोटी परेशानियों से जुझना पड़ रहा है। यहा से जुड़े पशुपालकों को अपने पशुओं की चिकित्सा व्यवस्थाएं नहीं मिल पा रही है तो बिजली की समस्या के चलते कार्य में बाधा आ रही है। विभाग पशु उपस्वास्थ्य केन्द्र को पशु चिकित्सालय में क्रमोनत कर चिकित्सक सहित स्टॉफ की नियुक्ति करने के साथ ही क्षतिग्रस्त सडक़ों की मरम्मत एवं नवीनीकरण हो तो उन्हें राहत मिलेगी।

कट जाता है सम्पर्क
राजमार्ग से ढाई किलोमीटर अंदर देवड़ावास कस्बा एवं इससे जुड़े गांव-ढाणी आज भी विभिन्न मुलभूत सुविधाओं को तरस रहे है। इससे भी अधिक हैरत की बात है की बारिश के समय तो क्षतिग्रस्त सडक़ों के कारण से करणा का बांस, खात्याहाली मजरा ढाणी एवं सरकावास गांव का सम्पर्क पंचायत मुख्यालय से कट जाता है। उन्हें कई फिट पानी-कीचड़ में होकर मुख्यालय जाना पड़ता है।

वही देवड़ावास से जरेली जाने वाला सडक़ मार्ग इतना क्षतिग्रस्त हो चुका है कि अनजान राहगीर तो जाना दूर की बात है स्थानीय निवासियों को भी गुजरने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं पंचायत मुख्यालय स्थित एक मात्र तालाब जो क्षेत्र के मवेशियों की प्यास बुझा रहा है। राजस्व रिकार्ड में तालाब सवाईचक भूमि पर दर्ज होने से पंचायत प्रशासन उस पर कोई विकास कार्य नहीं करा पा रही है, इसके साथ ही तालाब में अतिक्रमण भी बढऩे लगा है।

उल्लेखनीय है की वर्तमान में देवड़ावास पंचायत कार्यालय आमली फीडर से जुड़ा है इसमें अधिकतर समय बिजली की कटौती चलती है ऐसे में क्षेत्र के लोगों को छोटे-छोटे कार्यों के लिए कई दिनों तक भटकना पड़ रहा है। पंचायत कार्यालय देवड़ावास फीडर से जुड़ जाए तो लोगों को राहत मिलेगी।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned