कलक्ट्रेट सभागार में सतत विकास लक्ष्य समन्वित की हुई बैठक

टोंक जिला राजस्थान में 8 वां जिला है, जहां जिला स्तरीय एस.डी.जी. क्रियान्वयन एवं मॉनिटरिंग समिति की बैठक की गई है।

टोंक. अतिरिक्त जिला कलक्टर सुखराम खोखर की अध्यक्षता में 17 सतत विकास लक्ष्यों-2030 के लिए जिला स्तरीय एस.डी.जी. क्रियान्वयन एवं मॉनिटरिंग समिति की बैठक कलक्ट्रेट सभागार में हुई। खोखर ने बताया कि सतत विकास लक्ष्य 2030 के अन्तर्गत तीनों आयामों यथा पर्यावरण, सामाजिक एवं आर्थिक रूप से विकास करना है। सतत विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए 17 गोल्स एवं 16 9 लक्ष्यों एवं 306 सूचकांकों का निर्धारण किया गया है।

जिन्हें आगामी 15 सालों में वर्ष 2030 तक समयबद्ध रूप से प्राप्त किया जाना है। एस.डी.जी. बेहतर विश्व के लिए सार्वभौमिक, समन्वित एवं परिवर्तनीय दृष्टिकोण है। इसका एजेण्डा गरीबी को सभी आयामों यथा गरीबी उन्मूलन, भुखमरी समाप्त करना, अच्छा स्वास्थ्य एवं स्वस्थ जीवन स्तर, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, लैंगिक समानता, स्वच्छ जल एवं स्वच्छता, पर्यावरण से संबन्धित कार्य, जलीय जीवन में सुधार आदि है।

प्रत्येक उपखण्ड स्तर पर भी जिला स्तर की भांति समिति बनाई जाकर बैठकें आयोजित की जाएगी। जिला स्तरीय एस.डी.जी. क्रियान्वयन एवं मॉनिटरिंग समिति द्वारा समय-समय पर सतत विकास लक्ष्य 2030 की प्रगति की समीक्षा की जाएगी। जिसके लिए सभी विभागों को एक नोडल अधिकारी एवं एक कार्मिक की सूचना अविलंब भेजने को कहा है।

आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग के सहायक निदेशक सुरेन्द्र कुमार जैन ने बताया गया कि सतत विकास के लक्ष्य यानी एसडीजी-2030 सयुंक्त राष्ट्र संघ के 193 सदस्य देशों के बीच एक समझौता है। जिसे 193 देशों द्वारा वैश्विक विकास की दृष्टि से अपना कर सभी सदस्य देशों में एक फरवरी 2016 से लागू कर दिया है।

विश्व स्तर पर इस बड़े उद्देश्य को पूरा करने के लिए इसे 17 अलग-अलग लक्ष्यों में बांटा गया है। इसका उद्देश्य वर्ष 2030 तक दुनियाभर से गरीबी को सभी आयामों में समाप्त कर सबके लिए एक समान, न्यायपूर्ण और उत्कृष्ट जीवन देकर एक सुरक्षित विश्व की सृष्टि करना है।

उन्होंने बताया कि टोंक जिला राजस्थान में 8 वां जिला है, जहां जिला स्तरीय एस.डी.जी. क्रियान्वयन एवं मॉनिटरिंग समिति की बैठक की गई है। बैठक में आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग जयपुर के उप निदेशक राजेन्द्र चुलेट ने भी विचार व्यक्त किए। इस दौरान युनिसेफ प्रतिनिधि चयनराज चौधरी, पीडब्ल्यूडी अधीक्षण अभियन्ता डी.एल.आर्य, पुलिस उपाधीक्षक सौरभ कुमार, डिस्कॉम टीए प्रहलाद करनाल, मुख्य आयोजना अधिकारी राकेश कुमार मौर्य, सहायक निदेशक सीडीईओ सीताराम गुप्ता आदि मौजूद थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned