नगरपालिका टोडारायसिंह का सर्वसम्मति से सवा 37 करोड़ का बजट हुआ पारित

यहां नगरपालिका सभागार में शुक्रवार को पालिका क्षेत्र के विकास कार्य को लेकर पालिकाध्यक्ष संतुकमार जैन की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में करीब सवा 37 करोड़ रुपए का वार्षिक बजट पारित किया गया।

टोडारायसिंह. यहां नगरपालिका सभागार में शुक्रवार को पालिका क्षेत्र के विकास कार्य को लेकर पालिकाध्यक्ष संतुकमार जैन की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में करीब सवा 37 करोड़ रुपए का वार्षिक बजट पारित किया गया। पालिका बैठक में गत कार्रवाई की पुष्टि के बाद अधिशाषी अधिकारी भरतलाल मीणा ने वार्षिक बजट प्रस्तुत किया, जिसमें लेखाकार हंसराज गुर्जर ने विभिन्न मदों में आय-व्यय का ब्यौरा प्रस्तुत किया।

विभिन्न मदों से करीब 13 करोड़ 96 लाख 40 हजार की राजस्व आय व 23 करोड़ 20 लाख रुपए की पूजीगत आय दर्शाते हुए 2020-21 का करीब 37 करोड़ 16 लाख 4 हजार रुपए का अनुमानित वार्षिक बजट प्रस्तुत किया गया, जिसे सर्वसम्मति से पारित किया गया।

इधर, पालिकाध्यक्ष संतकुमार जैन ने बताया कि उक्त वार्षिक बजट में नगरपालिका क्षेत्र में आमसागर की पहाड़ी पर अटल गार्डन, रतवाई तिराहे से चुंगी नाके तक सौंदर्यकरण को लेकर डिवाइडर व स्ट्रीट लाइट समेत अन्य विकास कार्य तथा टोडारायसिंह पालिका क्षेत्र को प्लास्टिक मुक्त पालिका बनाने का कार्य किया जाएगा।

बैठक में पालिका उपाध्यक्ष रामनिवास सैनी, पार्षद गौरीशंकर पारीक, सत्यनारायण सैनी, रामदयाल सुवालका, हेमलता शर्मा, रामराज धाकड़, रामअवतार सैनी, एम. इस्लाम, रमेश सैनी समेत अन्य पार्षदगण मौजूद थे।

नई आबकारी नीति का किया विरोध
अनुज्ञाधारी संघ ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन, नई नीति के विरोध में आवेदन नहीं लगाने का निर्णय
देवली. आबकारी विभाग की ओर से जारी सत्र 2020-21 को लेकर नई नीति का स्थानीय अनुज्ञाधारी संघ ने विरोध किया। संघ ने बोरड़ा गणेश मन्दिर में बैठक कर नई नीति में बदलाव की मांग को लेकर शुक्रवार को उपखण्ड अधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

ज्ञापन में बताया कि नई आबकारी नीति में कई निर्णय ऐसे है, जिनके आधार पर अनुज्ञाधारी कारोबार करने में अक्षम है। इसे लेकर सभी अनुज्ञाधारियों ने नया आवेदन नहीं करने का निर्णय किया है।ज्ञापन में देशी व अंग्रेजी दुकानों पर पुलिस का हस्तक्षेप खत्म करने, 58 सी का प्रावधान यथावत रखने, देशी मदिरा में बेसिक लाईसेंस फीस हटाने व गारंटी के नाम पर अनुज्ञाधारियों को भ्रमित नहीं करने सहित अनेक मांग की गई। ज्ञापन देने में सम्पत सुवालका, धर्मराज मीणा, नोरतमल, रामस्वरुप टाक, सोनू, मदनलाल सुवालका, हेमराज सोयल, धर्मराज मीणा, नंदकिशोर, कालूराम, शैतान सहित दर्जनों अनुज्ञाधारी थे।

pawan sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned