रक्त बदलकर बचाई नवजात की जान

मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में पीलिया से पीडि़त महज 12 घंटे की नवजात की रक्त बदलकर चिकित्सकों ने जान बचाई है।

By: pawan sharma

Published: 21 Sep 2021, 08:22 AM IST

टोंक. मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में पीलिया से पीडि़त महज 12 घंटे की नवजात की रक्त बदलकर चिकित्सकों ने जान बचाई है। इससे पहले ऐसे मामलों में नवजात को जयपुर रेफर कर दिया था, लेकिन इस मामले में चिकित्सक डॉ. जगदीश गुर्जर और डॉ. जितेन्द्र छोलक ने टीम के साथ नवजात का रक्त बदला और पीलिया का उपचार किया।

फिलहाल नवजात स्वस्थ है। चिकित्सक जगदीश गुर्जर ने बताया कि रविवार शाम गीता देवी ने एक बच्ची को जन्म दिया था। उसका वजन 1.6 पौंड था। सोमवार सुबह उसकी तबीयत खराब हो गई। जांच उसके पीलिया पाया गया। उसका पीलिया लेवल 25 लेवल था। ऐसे में उन्होंने डॉ. जितेन्द्र और टीम के सहयोग से नवजात का रक्त बदलकर उसका उपचार किया। फिलहाल नवजात स्वस्थ है और उसका पीलिया लेवल 15 हो गया है।

5 परीक्षा केन्द्रों पर 1300 परीक्षार्थी बैठेंगे
टोडारायसिंह. रीट की परीक्षा की पूर्व तैयारी को लेकर एसडीएम कार्यालय में परीक्षा केन्द्र प्रभारियों की बैठक हुई। उपखण्ड अधिकारी रूबी अंसार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में रीट परीक्षा की पूर्व तैयारी पर चर्चा की गई। सीबीइओ राजेन्द्र प्रसाद शर्मा ने बताया कि 26 सितम्बर को होने वाली रीट की परीक्षा को लेकर शहर में राउमावि टोडा, श्रीदिगम्बर जैन सन्मति सागर स्कूल, ब्लीस स्कूल, राजकीय महाविद्यालय रतवाई व राजकीय मॉडल स्कूल को परीक्षा केन्द्र बनाया गया है।

दो पारियों में प्रथम व द्वितीय लेवल की होने वाली परीक्षा में 1300 परीक्षार्थी हिस्सा लेंगे। उपखण्ड अधिकारी ने सभी केन्द्राधीक्षकों को केन्द्र पर परीक्षार्थियों को कोविड की पालना कराने तथा परीक्षा नियमों की पूर्ण पालना के निर्देश दिए।

Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned