video @...झाडिय़ों में पटक गए नवजात

जिले में निर्दयता की हदें पार हो रही है। बेटे के हलकी सी चोट पर जहां मां-बाप की आंखों से आंसू निकल जाते हैं, वहीं एक निर्दयी मां ने कोख में 9 महीने पालने के बाद नवजात को हाडीकला गांव के समीप झाडिय़ों में फेंक दिया। गनीमत रही कि वहां से गुजर रहे भोलूराम जाट ने नवजात को झाडिय़ों में देख लिया और बरोनी थाना पुलिस को सूचना दे दी।

Mohan Lal Kumawat

Updated: 18 Feb 2020, 10:18 AM IST

Tonk, Tonk, Rajasthan, India

टोंक. जिले में निर्दयता की हदें पार हो रही है। बेटे के हलकी सी चोट पर जहां मां-बाप की आंखों से आंसू निकल जाते हैं, वहीं एक निर्दयी मां ने कोख में 9 महीने पालने के बाद नवजात को हाडीकला गांव के समीप झाडिय़ों में फेंक दिया।

गनीमत रही कि वहां से गुजर रहे भोलूराम जाट ने नवजात को झाडिय़ों में देख लिया और बरोनी थाना पुलिस को सूचना दे दी। सूचना के बाद पुलिस ने एम्बुलेंस की मदद से नवजात को मातृ एवं शिशु चिकित्सालय टोंक में भर्ती कराया। डॉ. विनोद परवेरिया ने नवजात का प्राथमिक उपचार किया।


परवेरिया ने बताया कि नवजात डेढ़ किलो का हैऔर उसका जन्म दोपहर करीब एक बजे हुआ है। फिलहाल नवजात स्वस्थ्य है। वह बालक है। पुलिस ने मामला दर्जकर नवजात की मां की तलाश शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया कि ग्रामीणों ने हाडीकलां गांव स्थित झाडिय़ों में नवजात के पड़े होने की सूचना दी थी।

इस पर मौके पर पुलिस पहुंची तो मिट्टी में सना हुआ नवजात उन्हें मिला। तुरंत एम्बुलेंस बुलाईगईऔर नवजात को अस्पताल में भर्ती कराया गया। इधर, सूचना के बाद बाल कल्याण समिति सदस्य जगदम्बा प्रसाद शर्मा व अजय जोशी अस्पताल पहुंचे। उन्होंने दत्तक ग्रहण एसेंजी की अस्पताल में देखरेख करने को कहा। इधर, नवजात के झडिय़ों में मिलने पर गांव में सनसनी फैल गई। हर कोई झाडिय़ों की ओर दौड़ पड़ा। मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned