निवाई विधायक प्रशांत बैरवा ने किया ट्वीट, सियासी हलकों में हुई हलचल

प्रदेश में मंत्रिमण्डल विस्तार को लेकर चली उठापठक के बीच निवाई विधायक प्रशांत बैरवा की ओर से ट्वीट पर डाली गया शेर काफी चर्चा में है। इसे प्रदेश मेें चल सियासी घटनाक्रम से जोड़ा जा रहा है।

By: pawan sharma

Published: 16 Jun 2021, 02:55 PM IST

टोंक. प्रदेश में मंत्रिमण्डल विस्तार को लेकर चली उठापठक के बीच निवाई विधायक प्रशांत बैरवा की ओर से ट्वीट पर डाली गया शेर काफी चर्चा में है। इसे प्रदेश मेें चल सियासी घटनाक्रम से जोड़ा जा रहा है। गोरतलब है कि इससे पहले गत 13 जून को राज्य मंत्री सुभाष गर्ग ने लिखा था कि ‘ये मौसम ही है ऐसा, आतुर हैं परींदें, घोंसला बदलने के लिए’ तथा गत 14 जून को चाकसू विधायक वेदप्रकाश सोलंकी ने भी लिखा था कि ‘कुछ परींदें खुद का घोंसला कभी नहीं बनाते वे दूसरों के बनाए घोंसलों पर ही कब्जा करते हैं।

खुद का मतलब पूरा होते ही उड़ जाते हैं, अगले सीजन में फिर किसी का घोंसला कब्जा लेते हैं। घना से भटके ये परींदें प्यास बुझाने के लिए कभी हैंडपम्प तो कभी पोखर में चौंच मारते नजर आते हैं’। इसके बाद मंगलवार को निवाई
विधायक प्रशांत बैरवा ने ट्वीट कर परींदों पर लिखा कि ‘टहनियों पर बैठे परींदें सवाल करते हैं, ये कौन लोग है जो इतना बवाल करते हैं, हम तो सफिर है ना मुस्तकिल ठिकाना है, फिर भी पूरा फर्ज हर सूरते हाल करते हैं।

इससे पहले विधायक प्रंशात रायचंद और जयचंद वाले बयान को लेकर भी चर्चा में रहे थे। एक बार फिर से ट्वीटर पर की गई शायरी से कांगे्रस के गलियारों में हलचल मच गई है। वहीं कांग्रेस के दोनों खेमों में चर्चा बन गई है। इस पर कई लोगों के बयान भी आए। पहले प्रंशात बैरवा पायलट समर्थक माने जाते थे, लेकिन राज्य में पिछले साल हुई सियासी बाड़ाबंदी के दौरान प्रंशात बैरवा कांग्रेस के विधायकों के साथ पहले जयपुर और फिर जैसलमेर के होटल में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थन में डटे रहे थे।

Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned