नई आबकारी नीति के विरोध में आवेदन नहीं लगाने का निर्णय, अनुज्ञाधारी संघ ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

आबकारी विभाग की ओर से जारी सत्र 2020-21 को लेकर नई नीति का स्थानीय अनुज्ञाधारी संघ ने विरोध किया। संघ ने बोरड़ा गणेश मन्दिर में बैठक कर नई नीति में बदलाव की मांग को लेकर शुक्रवार को उपखण्ड अधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

देवली. आबकारी विभाग की ओर से जारी सत्र 2020-21 को लेकर नई नीति का स्थानीय अनुज्ञाधारी संघ ने विरोध किया। संघ ने बोरड़ा गणेश मन्दिर में बैठक कर नई नीति में बदलाव की मांग को लेकर शुक्रवार को उपखण्ड अधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि नई आबकारी नीति में कई निर्णय ऐसे है, जिनके आधार पर अनुज्ञाधारी कारोबार करने में अक्षम है।

इसे लेकर सभी अनुज्ञाधारियों ने नया आवेदन नहीं करने का निर्णय किया है। ज्ञापन में देशी व अंग्रेजी दुकानों पर पुलिस का हस्तक्षेप खत्म करने, 58 सी का प्रावधान यथावत रखने, देशी मदिरा में बेसिक लाईसेंस फीस हटाने व गारंटी के नाम पर अनुज्ञाधारियों को भ्रमित नहीं करने सहित अनेक मांग की गई। ज्ञापन देने में सम्पत सुवालका, धर्मराज मीणा, नोरतमल, रामस्वरुप टाक, सोनू, मदनलाल सुवालका, हेमराज सोयल, धर्मराज मीणा, नंदकिशोर, कालूराम, शैतान सहित दर्जनों अनुज्ञाधारी थे।

मांगों के लिए सौंपा ज्ञापन
टोंक. महंगाई भत्ता समेत अन्य मांगों को लेकर शुक्रवार को राजस्थान राज्य मंत्रालयिक कर्मचारी महासंघ के कर्मचारियों ने रैली निकाली। उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम अतिरिक्त जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा। महासंघ के जिलाध्यक्ष राजेशकुमार नामा, महामंत्री राजेन्द्र च्यवनगौड़ आदि ने बताया कि केन्द्र के अनुरूप राज्य कर्मचारियों को महंगाईभत्ते देने ओदश हुए थे, लेकिन 8 माह बाद भी राज्य सरकार की ओर से आदेश जारी नहीं किए जा रहे हैं।

इससे कर्मचारियों में नाराजगी है। उन्होंने जुलाई2019 के महंगाई भत्ते के आदेश को जारी कराने की मांग की है। इसके अलावा स्टेट पैरिटी के आधार पर कनिष्ठ सहायक की गे्रड पे-3600 करने, अधीनस्थ मंत्रालयिक कर्मचारियों को शासन सचिवालय के मंत्रालयिक संवर्गके समान वेतनमान व पदोन्नति तथा अन्य मांगों का निस्तारण करने की मांग की है।

इधर अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त एकीकृत की ओर से विभिन्न मांगों को लेकर 17 फरवरी को मुख्यमंत्री के नाम जिला कलक्टर को ज्ञापन देंगे। एकीकृत के जिलाध्यक्ष सत्यनारायण मीणा ने बताया कि 24 से 28 फरवरी तक जयपुर में धरना दिया जाएगा।

pawan sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned