कोरोना वायरस: जिले में आ रहे हैं बाहर से लोग, शहर में एक दुबई से दूसरा आया झालावाड़ से

जिले में बाहर से आने वाले लोगों को क्रम जारी है। इसके तहत ही चिकित्सा विभाग ने कोरोना वायरस संदिग्ध चार जनों के नमूने जांच के लिए भेजे हैं।

टोंक. जिले में बाहर से आने वाले लोगों को क्रम जारी है। इसके तहत ही चिकित्सा विभाग ने कोरोना वायरस संदिग्ध चार जनों के नमूने जांच के लिए भेजे हैं। राहत की बात ये है कि जिले से अब तक भेजे गए सभी नमूने नेगेटिव मिले हैं, लेकिन बाहर से आने वालों पर अंकुश नहीं लगाया गया तो संक्रमण फैल सकता है।जिला कलक्टर के. के. शर्मा ने बताया कि अब तक सभी 15 नमूने के परिणाम नेगेटिव आई है।

इनमें 12 नमूने जिला अस्पताल तथा 3 के नमूने जयपुर आरयुएचएस में लिए गए थे। हालांकि बुधवार को भेजे गए नमूनों का परिणाम आना बाकी है। सआदत अस्पताल के पीएमओ डॉ. नविन्द्र पाठक ने बताया कि टोंक में एक महिला दुबई से तथा एक पुरुष झालावाड़ से आया है। वहीं टोडारायसिंह के खरेड़ा गांव में एक जना जयपुर तथा उनियारा में एक जना बैंगलुरू से आया है। इन सभी के नमूने भेजे गए हैं।

इधर, सीएमएचओ डॉ. अशोक कुमार यादव ने बताया कि होम कोरेन्टाइन या गृह निरूद्व का मतलब है कि इस घर में विदेश से आए ऐसे नागरिक ठहरे हैं जिन्हें अभी 28 दिन नहीं हुए। गाइडलाइन अनुसार उस व्यक्ति को विदेश से आने की तारीख से 28 दिन तक घर के एक कक्ष में ही रहना होगा और दूसरे सदस्यों से संपर्क नहीं करेगा। परिवार के अन्य सदस्य भी सावधानी बरतें एवं अनावश्यक बाहर न निकले तथा अन्य लोगों को घर में न आने दें।

घर के बाहर विभाग की ओर से सूचना इसलिए भी दर्शाई जा रही है ताकि नियमित भ्रमण करने वाली टीम एवं आमजन यह सुनिश्चित कर सकें कि यहां विदेश से आने वाला नागरिक कितने दिन से रूका है। डिप्टी सीएमएचओ डॉ. महबूब खान ने बताया कि विदेश से आए हर नागरिक का सम्मान करते हैं एवं उनकी गरिमा का आमजन को भी ख्याल रखना चाहिए।

किसी भी सूरत में अफवाह फैलाने से बचना चाहिए। सूचना लगाने का यह बिल्कुल मतलब नहीं है कि घर को सीज किया गया है या यहां कोई कोरोना प्रभावित है। यह आमजन के साथ ही उस परिवार को संक्रमण से बचाने के लिए ऐहतियातन कदम है, जिसमें सभी का सहयोग अपेक्षित है।


अफवाह न फैलाएं
जिला कलक्टर के. के. शर्मा ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से दिए गए निर्देशों की पालना में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से विदेश से आए नागरिकों के घरों के आगे सूचना प्रदर्शित की जा रही है और उस घर को होम कोरेन्टाइन माना गया है। हालांकि कुछेक असामाजिक तत्वों की ओर से एक-दो घरों के संबंध में अफवाह फैलाई गई कि यहां कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, जबकि ऐसा नहीं है। ऐसे लोगों के खिलाफ अफवाह फैलाने वालो पर मुकदमा दर्ज हो सकता है।

Corona virus
pawan sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned