पत्नी की गुमशुदगी दर्ज कराने के एक माह बाद पति ने की आत्महत्या, 24 घंटे बाद हुआ शव पोस्टमार्टम

पत्नी की गुमशुदगी दर्ज कराने के एक माह बाद पति ने की आत्महत्या, 24 घंटे बाद हुआ शव पोस्टमार्टम

Pawan Kumar Sharma | Updated: 08 Aug 2019, 02:43:25 PM (IST) Tonk, Tonk, Rajasthan, India

युवक के आत्महत्या करने बाद परिजन कार्रवाई की मांग को लेकर पोस्टमार्टम नहीं कराने पर अड़ गए।परिजन मुआवजा राशि दिलाने व आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़े रहे।

देवली. हनुमाननगर थाना क्षेत्र के लुहारी कलां गांव में मंगलवार शाम युवक के आत्महत्या करने बाद परिजन कार्रवाई की मांग को लेकर पोस्टमार्टम नहीं कराने पर अड़ गए। बाद में बुधवार शाम हनुमाननगर पुलिस थाने में जहाजपुर विधायक गोपीचंद मीणा व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनुकृति उज्जैनिया की मौजूदगी में मृृतक के पिता के साथ वार्ता के बाद पोस्टमार्टम हुआ।

read more: Students' Union Election-2019: 27 अगस्त को चुनाव, 28 को होगी मतगणना,अब महाविद्यालयों में बढ़ेेगी रौनक

पुलिस ने बताया कि मृतक लुहारी निवासी सुमित मीणा (27) पुत्र बीरमा मीणा है। युवक ने मंगलवार शाम घर में कमरे के भीतर फंदा लगा लिया। घटना के बाद परिजन मंंगलवार देर रात ही शव को लेकर हनुमाननगर थाने ले गए। पुलिस की समझाइश के बाद शव को राजकीय अस्पताल देवली की मोर्चरी में रखवाया गया।

 

पुलिस ने बताया कि मृतक पति ने पत्नी शरमा की गत 5 जुलाई को हनुमाननगर थाने में गुमशुदगी दर्ज करवाई गई थी। बाद में शरमा ने बटवाडी(हिण्डोली)निवासी युवक से नाता विवाह कर लिया। तब से शरमा नाता विवाह वाले पति के साथ रह रही थी। इधर, सुमित ने मंगलवार शाम अपने घर में फंदा लगाकर जीवनलीला समाप्त कर ली।

 

read more:पश्चिमी सरहद पर ऑपरेशन अलर्ट शुरू,21 अगस्त तक सीमा क्षेत्र में रहेगा अधिकाधिक मूवमेंट

 

परिजनों का आरोप है कि शरमा व उसके नाता वाले पति ने पहले वाले पति सुमित को फोन पर प्रताडि़त किया, जिससे परेशान होकर सुमित ने जान दे दी। इसी वजह से मृतक के परिजनों ने पोस्टमार्टम के लिए मना कर दिया।

 

परिजन मुआवजा राशि दिलाने व आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़े रहे। दिनभर चले वार्ता के बाद शाम को दोषियों के खिलाफ आत्महत्या के लिए प्रेरित करने के मामला दर्ज किए जाने की सहमति के बाद परिजन पोस्टमार्टम के लिए राजी हुए।

 

झूठे मामले दर्ज कराने वाली महिलाओं पर हो कार्रवाई
टोंक. पीपलू क्षेत्र के ग्रामीणों के खिलाफ बलात्कार के झूठे मामले दर्ज कराने वाली महिलाओं के खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर ग्रामीणों ने मंगलवार को जिला कलक्टर तथा पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपा। इसमें बताया कि चार-पांच महिलाएं हैं जिन्होंने ग्रामीणों के खिलाफ बलात्कार के झूठे मामले पीपलू तथा बरोनी थाने में दर्ज कराए हैं।

 

जबकि उक्त महिलाएं उक्त लोगों से रुपए ऐंठना चाहती है। बलात्कार की धमकी देकर कई लोगों से रुपए लिए जा चुके हैं। ऐसे में उन्होंने उक्त महिलाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। ये ज्ञापन पंचायत समिति सदस्य जाकिर हुसैन के नेतृत्व में सौंपा गया।

 

इसमें सरपंच छोटा, श्रवण, इकबाल, रंगलाल मीणा, रामफूल रैगर, तेजपाल, छोगालाल समेत दर्जनों ग्रामीणों ने बताया कि उक्त महिलाएं पहले ग्रामीणों से बात करती है। बाद में मोबाइल फोन से बुलाती हैऔर बलात्कार का मामला दर्ज कराने की धमकी देकर रुपए मांगती है। ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं। ऐसे में उक्त महिलाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned