video: विकास शुल्क वसूले जाने पर छात्रों ने प्रदर्शन कर तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

विकास शुल्क वसूले जाने पर स्वयंपाठी छात्रों ने प्रदर्शन किया

 

By: pawan sharma

Updated: 10 Apr 2019, 09:57 AM IST

टोंक.टोडारायसिंह. महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय के अधिनस्थ परीक्षा केन्द्र के लिए निर्धारित निजी महाविद्यालयों में आयोजित परीक्षाओं में स्वयंपाठी परीक्षार्थियों से विकास शुल्क के नाम पर राशि वसुलने के मामले में पीडि़त छात्रों के साथ छात्र संगठनों ने प्रदर्शन कर तहसीलदार कपिल शर्मा को ज्ञापन सौंपा।

 

विधि महाविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष भरतराज, जुगराज सिंह, सुरेश, राजेश समेत कई छात्रों ने ज्ञापन में बताया कि परीक्षा आवेदन पत्र ऑनलाइन भरे जाने के समय ही राजकीय महाविद्यालय मालपुरा में विकास शुल्क के 350 रुपए परीक्षार्थियों से लिए गए थे,

 

जिनकी उनके पास रसीद है, लेकिन विश्वविद्यालय की परीक्षाओं के लिए राजीव गांधी महाविद्यालय कूकड़ निर्धारित किए जाने के बाद स्वयंपाठी परीक्षार्थियों से विकास शुल्क के नाम पर प्रति परीक्षार्थी तीन सौ रुपए उनसे लिए जा रहे है। इसका विरोध करने पर संचालक की ओर से छात्र संगठन के पदाधिकारियों के खिलाफ थाने में मामले दर्ज कराए जा रहे है। इसको लेकर नाराजगी है।

 

इनका कहना है
ऑनलाइन आवेदन के दौरान के विकास शुल्क राशि 350 रुपए सबंधित राजकीय महाविद्यालय में जमा होती है, जिसमें से 50 रुपए विश्वविद्यालय अजमेर को जमा कराया जाता है। विश्वविद्यालय परीक्षा प्रबंधन के लिए निर्धारित परीक्षा केन्द्र संचालक को देती है। परीक्षार्थी से दोबारा विकास शुल्क की राशि वसूला जाना गलत है।
बी.एल.मीणा, प्राचार्य राजकीय महाविद्यालय मालपुरा।

 


इनका कहना है
परीक्षार्थियों से विकास शुल्क की दोहरी वसूली गलत है, लेकिन अब तक विश्वविद्यालय या सबंधित राजकीय महाविद्यालय से उक्त विकास शुल्क की राशि, सबंधित परीक्षा केन्द्र को नहीं दी है। जबकि परीक्षा केन्द्र पिछले तीन वर्ष से संचालित है। उन्हें उक्त विकास शुल्क की राशि उपलब्ध कराई जानी चाहिए।
कुलदीप कुलहरी, मंत्री राजीव गांधी महाविद्यालय कूकड़।

 


इनका कहना है
एमडीएस अजमेर अधिनस्थ आवेदन करने वाले परीक्षार्थी का विकास शुल्क एक ही बार लिया जाता है। उक्त मामला राजकीय व निजी महाविद्यालय का आपसी मामला है, जिसमें राजकीय महाविद्यालय मालपुरा विकास समिति निर्णय लेकर उक्त राशि सबंधित परीक्षा केन्द्र को लौटाएगी। ऐसा सबंधित महाविद्यालयों को लिखित में दिया गया है। यदि परीक्षा केन्द्र की पूर्व की राशि बकाया है। तो उक्त मामले की जांच करवाई जाएगी।
सुब्रतो दत्ता, परीक्षा प्रभारी एम.डी.एस. अजमेर

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned