उदयपुर से आई कमेटी ने की जांच शुरू, छात्राओं से भरवाई प्रश्नावली

जनजाति क्षेत्रीय विकास योजनान्तर्गत संचालित एकलव्य मॉडल आवासिय स्कूल की छात्राओं द्वारा विभिन्न मांगों को लेकर विद्यालय के मुख्यद्वार पर दिए गए धरने के बाद मंगलवार को उदयपुर से आई जांच कमेटी ने जांच की। जबकि हटाने जाने के बाद भी प्रधानाचार्य, हॉस्टल वार्डन दोनों उपस्थिति पंजीका में हस्ताक्षर कर रही है।

By: pawan sharma

Published: 13 Oct 2021, 08:22 AM IST

निवाई. जनजाति क्षेत्रीय विकास योजनान्तर्गत संचालित एकलव्य मॉडल आवासिय स्कूल की छात्राओं द्वारा पांच दिन पूर्व प्रधानाचार्य, हॉस्टल वार्डन के स्थानांतरण करवाने सहित विभिन्न मांगों को लेकर विद्यालय के मुख्यद्वार पर दिए गए धरने के बाद मंगलवार को उदयपुर से आई जांच कमेटी ने जांच की। जबकि हटाने जाने के बाद भी प्रधानाचार्य, हॉस्टल वार्डन दोनों उपस्थिति पंजीका में हस्ताक्षर कर रही है।


जानकारी अनुसार सोमवार को जनजातीय क्षेत्रीय विकास विभाग उदयपुर के शिक्षा उप निदेशक केसी.कोली के नेतृत्व में सुभाषचंद्र शर्मा और पंचायत समिति निवाई के सहायक लेखाधिकारी रमेशचंद्र शर्मा ने छात्राओं द्वारा बताई गई समस्याएं सुनी है। तथा प्रधानाचार्य और हॉस्टल वार्डन के बीच उपजे विवाद की भी बारीकी से जांच की जा रही है।

मंगलवार को भी शिक्षा उपनिदेशक ने अलग-अलग कक्षा की छात्राओं से समस्याओं के लिए लिखित प्रश्नावली देकर बिना किसी दबाव में जबाव लिया है। इसी प्रकार छात्राओं के अभिभावकों तथा शिक्षकों से भी लिखित प्रश्नावली से जवाब लिए है। शिक्षा उपनिदेशक ने बताया कि दो दिन से हमारी टीम स्कूल और छात्रावास, शिक्षकों, संविदा कर्मियों तथा अभिभावकों से लगातार व्यक्तिगत सम्पर्क कर समस्याओं के बारे में विस्तार से जानकारी ली है।

कोली ने यह भी बताया कि उक्त मामले में उच्चाधिकारियों को एक रिपोर्ट तैयार कर दी जाएगी। जिसके बाद ही अधिकारियों द्वारा निर्णय लिया जाएगा। ज्ञाते रहे कि शुक्रवार को छात्राओं द्वारा दिए गए धरने के बाद मौके पर पहुंची तहसीलदार प्रांजल कंवर व विकास अधिकारी डॉ.सरोज बैरवा छात्राओं ने समझाकर लिखित आश्वासन दिया था, तब जाकर छात्राओं ने धरना समाप्त किया था।

आदेश की अवहेलना
शिक्षा उपनिदेशक के.सी.कोली का कहना है कि आयुक्त के आदेश की अक्षरश: से पालना होनी चाहिए और उपखंड अधिकारी को चार्ज मिलने के बाद प्रधानाचार्य उपस्थिति रजिस्टर में हस्ताक्षर नहीं कर सकती। यदि हस्ताक्षर कर रही है तो सरकारी नियमों की अहवेलना है।

समस्याओं का नहीं हुआ निस्तारण

कुछ अभिभावकों ने बताया कि शुक्रवार को प्रशासनिक अधिकारियों ने समस्याओं के निराकरण के लिए मंगलवार तक का समय मांगा था, लेकिन आज मंगलवार तक किसी भी समस्या का निराकरण नहीं हुआ है और प्रधानाचार्य और वार्डन हटाने के बाद भी विद्यालय में मौजूद है।

खरीद के बिलों की हो रही है जांच
मॉडल स्कूल में बाजार से खरीदी जाने वाले विभिन्न वस्तुओं के बिलों की भी जांच कमेटी द्वारा दो दिन से एक-एक बिल की गहनता से जांच की जा रही है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही मालूम चल पाएगा कि वस्तुओं की खरीद में कोई गड़बड़ी है या नहीं।

आज तक किए है हस्ताक्षर
छात्राओं के धरने की सूचना तहसीलदार द्वारा जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग की आयुक्त प्रज्ञा केवलरमानी को देने पर प्रधानाचार्य अंजू मीणा तथा हॉस्टल वार्डन संतोष मीणा को हटाकर निदेशक माध्यमिक शिक्षा बीकानेर पर उपस्थिति देने के लिए 8 अक्टूबर को आदेश दिए थे, लेकिन अभी तक प्रधानाचार्य और वार्डन मॉडल में ही कार्य कर प्रतिदिन उपस्थित रजिस्टर में हस्ताक्षर कर रही है।

रजिस्टर में हस्ताक्षर गलत
उपखंड अधिकारी त्रिलोकचंद मीणा का कहना है कि शनिवार को चार्ज हैडओवर हुआ था, जिसके बाद अभियान में जाने की वजह से मॉडल स्कूल नहीं जा पाया। पद से हटाने के बाद भी प्रधानाचार्य और हॉस्टल वार्डन द्वारा उपस्थिति रजिस्टर में हस्ताक्षर करना पूर्णतया गलत और अनुचित है। इस मामले में स्कूल पहुंचने के बाद ही निर्णय लिया जाएगा।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned