धार्मिक कार्यक्रम: प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की जन्म जयन्ती

जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की जन्म जयन्ती पर मंगलवार रात पांच दिवसीय आदिनाथ जयंती के समापन समारोह पर सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया, जिसमें महिला मंडल की सदस्यों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया।

By: MOHAN LAL KUMAWAT

Published: 19 Mar 2020, 08:43 AM IST

मालपुरा. जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की जन्म जयन्ती पर मंगलवार रात पांच दिवसीय आदिनाथ जयंती के समापन समारोह पर सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया, जिसमें महिला मंडल की सदस्यों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया।

आदिनाथ जयन्ती समारोह के समापन पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुआत श्री आदिनाथ महिला मंडल की सदस्यों ने दीप प्रज्वलित कर किया।

वहीं मंगलाचरण शांतिनाथ महिला मंडल की महिलाओं ने किया। कार्यक्रम में महावीर महिला मंडल, आदिनाथ महिला मंडल, ज्ञानमति महिला मंडल, शांतिनाथ महिला मंडल, वीर महिला मंडल एवं शांतिनाथ महिला मंडल पांडुक शिला की महिलाओं सहित समाज की कई महिलाओं के दलों ने धार्मिक भजनों पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां दी।


भक्तामर का अनुष्ठान किया
निवाई. सकल दिगम्बर जैन समाज के तत्वावधान में भगवान आदिनाथ व उनके पुत्र भरत चक्रवर्ती की जन्म जंयती पर बुधवार को कोरोना वायरस से मुक्ति के लिए बिचला जैन मंदिर मे भक्तामर अनुष्ठान का आयोजन किया गया।

अनुष्ठान के दौरान संगीतमय रिद्वी मंत्रों का पठन किया गया। श्रद्धालुओं ने सब जीव निरोगी हो मंगल भावना के साथ भगवान के समक्ष रमेशचन्द, मुकेश कुमार, दिनेश कुमार संघी द्वारा दीप प्रज्वलित किया गया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता पवन कुमार प्रभा टोंग्या द्वारा की गई। इस अवसर पर प्रश्न मंच का आयोजन भी किया गया, जिसमें जिनवाणी महिला मंडल द्वारा पारितोषित वितरण किया गया। इस अवसर पर मनीष बिलाला, पुनीत, अशोक, यश, संगीता, सुमन, शीला, रेशु, अनीता, आशा लटूरिया सहित कई लोग मौजूद थे।

MOHAN LAL KUMAWAT
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned