scriptRestrictions in cities, guideline air in villages | शहरों में पाबंदी, गांवों में गाइडलाइन हवा | Patrika News

शहरों में पाबंदी, गांवों में गाइडलाइन हवा

कोरोना : स्कूलों में मास्क, सैनेटाइजर व सोशल डिस्टेंस नहीं आया नजर

टोंक

Published: January 11, 2022 02:02:01 pm


टोडा. कोरोना संक्रमण के कारण प्रदेश में पाबंदियों के बीच सरकार ने एक सप्ताह में तीसरी गाइडलाइन जारी कर दी। जिसमें शहरो में 12वीं तक स्कूल-कोङ्क्षचग बंद करने के आदेश जारी कर दिए, लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में संचालित सरकारी व गैर सरकारी विद्यालयो में कोरोना एडवायजरी की पालना नहीं होने से खुलेआम कोरोना को दावत दी जा रही है। स्थिति यह है कि ओलावृष्टि व शीतलहर के बीच सरकारी व गैर सरकारी विद्यालयों में विद्यार्थियों का ठहराव कम नजर आया। मोर, कूकड़, बावड़ी, रीण्डल्या रामपुरा, भासू, मेहरू, पंवालिया, मांदोलाई समेत अन्य पंचायत क्षेत्र के अधिकांश सरकारी व गैर सरकारी विद्यालयों में कोरोना एडवायजरी की पालना भी नजर नहीं आई।
यहां हो रही कोरोना की अनदेखी
पचेवर. जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमितों की संख्या के बावजूद सरकारी एवं निजी विद्यालयों में गाइडलाइन की पालना नहीं की जा रही है। विद्यालयों में बच्चे बिना मास्क एवं सोशल डिस्टेङ्क्षन्सग के अभाव में बैठकर शिक्षा ग्रहण करने के लिए मजबूर है। एसं.
आदेशों की उड़ी हवा
सोप. स्कूलों में बच्चे मास्क लगा रहे हैं न सोशल डिस्टेंस की पालना की जा रही है। गाइड लाइन की पालना के आदेश जारी किए हैं, लेकिन इसकी पालन सोप कस्बे के विद्यालयों में ना के बराबर हो रही है। स्कूलों में मास्क नहीं लगाया जा रहा है।
मासूमों के जीवन से खिलवाड़
पारली. ग्राम पंचायत क्षेत्र में संचालित विद्यालयों में कोविड गाइडलाइन की अवहेलना कर मासूम विद्यार्थियों के जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा है। विद्यालयों में विद्यार्थी ना तो मास्क का प्रयोग कर रहे हैं और ना ही उन्हें सामाजिक दूरी पर बिठाया जा रहा है।
गाइडलान के चक्कर में उलझे शिक्षक
राजमहल. गांव के विद्यालय में अभी भी कोरोना संक्रमण को लेकर अभिभावक व अध्यापक बेखबर नजर आ रहे हैं। गांव के विद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के पास ना मास्क नजर आ रहे हैं और ना ही कक्षाओं में सोशल डिस्टेंस दिखाई दे रहा है, जिसको लेकर कई अभिभावकों में कोरोना विस्फोट को लेकर ङ्क्षचता सताने लगी है। गांव के विद्यालय में आज भी पूर्व की भांति विद्यार्थी विद्यालय पहुंच रहे है।
मालपुरा. ग्रामीण क्षेत्रों में चलने वाले विद्यालयों में सरकारी व निजी शिक्षण संस्थानों में कोरोना गाइड लाइन की पालना नहीं की जा कर यथावत रूप से ही विद्यालय का संचालन किया जा रहा है। सैनेटाइजर व मास्क की उपलब्धता विद्यालयों में नजर नहीं आती। मालपुरा शहर में अधिकांश निजी शिक्षण संस्थान ग्राम पंचायत क्षेत्र में आते हैं, जिनमें शहर व गांवों के विद्यार्थी आते हैं।
& स्कूलों में कोरोना गाइड लाइन की पालना कराई जा रही है। सरकार के आदेश पर शहरी स्कूल सभी बंद है। गांव में गाइड लाइन की पालना के लिए पीइइओ को कहा गया है।
सुरेशकुमार जैन, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी टोंक
शहरों में पाबंदी, गांवों में गाइडलाइन हवा
शहरों में पाबंदी, गांवों में गाइडलाइन हवा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावCorona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूअलवर दुष्कर्म मामलाः प्रियंका गांधी ने की पीड़िता के पिता से बात, हर संभव मदद का भरोसाArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यभीम आर्मी प्रमुख चन्द्र शेखर ने अखिलेश यादव पर बोला हमला, मुलाकात के बाद आजाद निराशछत्तीसगढ़ में तेजी से बढ़ रहे कोरोना से मौत के आंकड़े, 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत, 6153 नए संक्रमित मिले, सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट दुर्ग मेंयूपी विधानसभा चुनाव 2022 पहले चरण का नामांकन शुरू कैराना से खुला खाता, भाजपा के लिए सीटें बचाना है चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.