script सफाई के लिए बाहर से आए कार्मिकों को खदेड़ा, कचरा चौराहे पर डाला | Returned the personnel who came from outside for cleaning | Patrika News

सफाई के लिए बाहर से आए कार्मिकों को खदेड़ा, कचरा चौराहे पर डाला

locationटोंकPublished: Dec 01, 2023 06:45:35 pm

Submitted by:

pawan sharma

ठेका पद्धति बंद करने का डेढ़ माह से अधिक समय से विरोधकर सफाईकर्मियों की ओर से किए कार्य बहिष्कार के दौरान गुरुवार को नगरपालिका की ओर से कस्बे की सफाई को बाहर से बुलाए कार्मिकों को वाल्मीकि समाज के महिला-पुरुषों ने विरोधकर खदेड़ दिया।

 

सफाई के लिए बाहर से आए कार्मिकों को खदेड़ा, कचरा चौराहे पर डाला
सफाई के लिए बाहर से आए कार्मिकों को खदेड़ा, कचरा चौराहे पर डाला
ठेका पद्धति बंद करने का डेढ़ माह से अधिक समय से विरोधकर सफाईकर्मियों की ओर से किए कार्य बहिष्कार के दौरान गुरुवार को नगरपालिका दूनी की ओर से कस्बे की सफाई को बाहर से बुलाए कार्मिकों को वाल्मीकि समाज के महिला-पुरुषों ने विरोधकर खदेड़ दिया। सफाई करने को लेकर बाहर से कार्मिक बुलाए जाने की सूचना पर वाल्मीकि समाज के दर्जनों महिला-पुरूष एवं युवा नगरपालिका दूनी के बाहर एकत्रित हो गए। इस दौरान उन्होंने सफाई कर रहे कार्मिकों का विरोधकर खदेड़ दिया। इसके बाद नाराज महिला-पुरूषों एवं युवाओ ने सफाई कर ट्रैक्टर-ट्रॉली में भरे कचरे को बस स्टैण्ड चौराहा व आवां मार्ग पर खाली कर विरोध जता नगरपालिका कार्यालय परिसर में आ गए।
कार्य नहीं करने देने की मांग पर अड़े

शहर में हंगामा होने की सूचना पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने वाल्मिकी समाज से मामले की जानकारी लेकर वार्ता की मगर वह ठेका पद्धति बंद नहीं करने तक कार्य बहिष्कार करने व अन्य कार्मिकों को भी शहर में कार्य नहीं करने देने की मांग पर अड़े रहे।
आश्वासन देने के बाद लौटे

मामले की जानकारी होने के बाद दूनी निवासी देवली पंचायत समिति प्रधान गणेशराम जाट ने वाल्मिकी समाज को आचार संहिता के बाद उच्चाधिकारियों को अवगत करा समस्या समाधान का आश्वासन देने के बाद सभी लोग घरों को लौटे।

कार्य बहिष्कार रखा जाएगा

इसके बाद उन्होंने दूनी बस स्टैण्ड एवं आवां मार्ग पर खाली किए कचरे को भी हटा दिया। मगर समाज के सौभाग्यमल सहित अन्य ने बताया कि ठेका पद्धति बंद कर नगरपालिका के माध्यम से कार्य कराने, सफाईकर्मियों की संख्या बढ़ाने के साथ ही मानदेय तत्कालीन पंचायत के बजाय नगरपालिका तर्ज पर सरकार की और से देय दर पर देने तक कार्य बहिष्कार रखा जाएगा।
इसलिए है विवाद: नगरपालिका दूनी की ओर से सफाईकर्मियों को अवगत कराए बिना ही सफाई का ठेका बाहरी ठेकेदार को दे दिया, इसके बाद 9 अक्टूबर को सफाईकर्मियों ने सफाई कार्य का बहिष्कार कर दिया।
50 दिन में 5 दिन हुई सफाई

दूनी नगरपालिका एवं सफाईकर्मियों में चल रही खींचतान के चलते 50 दिन से चले आ रहे कार्य बहिष्कार के चलते अक्टूम्बर व नवम्बर माह में सफाईकर्मियों ने विजयादशमी पर दो दिन शहर की साफ-सफाई की। इसके बाद वापस कार्य बहिष्कार किए जाने के बाद दीपावली पर्व पर लक्ष्मीपुजन से एक दिन पूर्व आधा दर्जन युवाओं ने एक-दो जगह मुख्य चौराहे पर लगे कचरे व गंदगी के ढेर साफ किए।
इसके बाद गंदगी बढ़ती देख नगरपालिका ने जेसीबी से कचरा एवं गंदगी उठवा साफ-सफाई कराई। वहीं इसके बाद विधानसभा चुनाव में मतदान से पूर्व नगरपालिका ने बाहर से कार्मिक बुलाकर मतदान केन्द्रों की साफ-सफाई कराई थी।

ट्रेंडिंग वीडियो