video: जयपुर-कोटा राष्ट्रीय राजमार्ग पर हुआ भयंकर हादसा, दो की मौत व दर्जनों घायलों को देख मची चीख-पुकार से दहल उठा हर कोई

Pawan Kumar Sharma | Publish: Sep, 09 2018 06:56:58 PM (IST) Tonk, Rajasthan, India

भिड़न्त के बाद मौके पर बासनी के दर्जनों ग्रामीणों ने पुलिस व प्रशासन को सहयोग किया। ग्रामीणों ने क्षतिग्रस्त बस व टे्रलर से घायलों व मृतक को निकालने में पुलिस की मदद की।

 

देवली. राष्ट्रीय राजमार्ग कोटा पर बासनी गांव के समीप रविवार को ट्रेलर अनियंत्रित होकर दूसरी लेन में चल रही रोडवेज बस से जा भिड़ा। हादसे में दो जनों की मौत हो गई। जबकि बस सवार करीब दो दर्जन यात्री घायल हो गए, जिन्हें पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से देवली अस्पताल में भर्ती कराया।

 

जहां से आधा दर्जन गम्भीर घायलों को तत्काल कोटा रैफर कर दिया। हादसे के बाद राजमार्ग पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। देवली थाना प्रभारी राजकुमार नायक ने बताया कि ये दुर्घटना बूंदी जिले की बासनी गांव के समीप हुई है।

 

जहां कोटा डिपो की बस देवली की ओर आ रही थी। वहीं दूसरी लेन में टे्रलर कोटा की ओर जा रहा था। सुबह करीब 11 बजे टे्रलर अनियंत्रित हो गया तथा डिवाइडर फांदता हुआ दूसरी लेन में चल रही रोडवेज बस से जा भिड़ा।

 

भिड़न्त इतनी जबरदस्त थी कि, रोडवेज बस चालक की केबिन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। वहीं ट्रेलर का आगे का हिस्सा चकनाचूर होकर बिखर गया। हादसे के दौरान हुए धमाके के बाद क्षेत्र के ग्रामीण मौके पर पहुंचे।

 

जहां उन्होंने क्षेत्र की हिण्डौली व पेंच की बावड़ी पुलिस को सूचना दी, लेकिन हादसे स्थल के समीप हनुमाननगर पुलिस होने के चलते उक्त पुलिस को मौके पर पहुंचना पड़ा। सूचना पर पहुंचे हैडकांस्टेबल कालूलाल ने घायलों को एम्बूलेंस के जरिए देवली अस्पताल लाकर भर्ती कराया।

 

इनमें ट्रेलर चालक की मौके पर मौत हो गई, लेकिन चालक की शिनाख्त नहीं हो सकी। वहीं बासनी के ग्रामीण रामस्वरूप (70) पुत्र सूरजमल ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। पुलिस के अनुसार रामस्वरुप राजमार्ग के समीप मवेशी चरा रहा था, जो भिड़न्त के दौरान हादसे की चपेट में आ गया।

 

इधर, देवली थाना प्रभारी राजकुमार नायक, एसआई पुष्पा कासौटिया, घनश्याम मीणा, एएसआई रामलाल भी अस्पताल पहुंचे। जहां उन्होंने घायलों को मदद की। ज्यों-ज्यों घायल अस्पताल पहुंचते गए, त्यों-त्यों उनकी चीख-पुकार से परिसर गंूज उठा।

 

इस दौरान अस्पताल के आधा दर्जन चिकित्सकों की टीम ने घायलों को प्राथमिक उपचार दिया। हादसे के बाद मौके तथा राजकीय अस्पताल में सैंकड़ो लोगों की भीड़ जमा हो गई। जिससे पुलिस व चिकित्साकर्मियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।


ये हुए घायल
भिड़न्त में रोडवेज बस चालक साहिब सिंह व परिचालक हेमेन्द्र राजावत निवासी कोटा घायल हुए। जबकि यात्रियों में सत्येन्द्र सिंह, तानसेन दमामी, लीजा, तमन्ना, राजसिंह, हेमेन्द्र सिंह, नरेन्द्र सिंह, गोपाल, मीना सोनी, शंकर सिंह, मोहन बैरवा, अब्दुल रहमान, नुरुन्निशा, मदन, कनीजा परवीन, दानिश, प्रकाश कुमारी, हीरा देवी, मुस्कान, कविता पटवा, जसवंत सिंह, फरजाना, असफाक हैं।

 

इनमें हीरा देवी, अब्दुल रहमान, प्रकाश, दानिश, तमन्ना, नूर निशा समेत सात जनों को कोटा रैफर किया। इस दौरान हिण्डौली उपखण्ड अधिकारी रघुनाथ सिंह, हिण्डौली पुलिस उपाधीक्षक गोविन्द सिंह, थाना प्रभारी लक्ष्मण सिंह तथा देवली उपखण्ड अधिकारी रवि वर्मा, देवली थाना प्रभारी राजकुमार नायक, हनुमाननगर थाना प्रभारी पुरखाराम आदि ने अस्पताल पहुंचकर घायलों की कुशलक्षेम पूछी तथा व्यवस्था संभाली।

 


तीन जिलों की पुलिस जुटी
बासनी में हुए हादसे के बाद तीन जिलों की पुलिस व्यवस्था व घायलों की मदद के लिए जुटी। गौरतलब है कि घटनास्थल बंूदी जिले का बासनी है। जबकि इसके समीप हनुमाननगर थाना पुलिस थी।

 

वहीं घायलों को देवली अस्पताल लाए जाने के चलते टोंक की देवली, भीलवाड़ा की हनुमाननगर व बंूदी की हिण्डौली पुलिस ने व्यवस्था संभाली। हादसे की सूचना के बाद राजकीय अस्पताल में लोगों की भीड़ एकत्र हो गई, जिन्हें हनुमाननगर व देवली पुलिस ने नियंत्रित किया।

 


चिकित्सकों ने दिखाई तत्परता
एम्बुलेंस घायलों को लेकर देवली अस्पताल पहुंची। इस दौरान एम्बूलेंस को तीन-चार फेरे लगाकर घायलों का लाना पड़ा। वहीं सूचना पर चिकित्सालय प्रभारी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता की अगुवाई में आधा दर्जन चिकित्सकों ने पहुंचकर घायलों का उपचार शुरू कर दिया,

 

जिनका सहयोग वहीं के चिकित्साकर्मियों ने भी किया। इस दौरान चिकित्सक सुमन माथुर, जगदीश कुमावत, राजकुमार गुप्ता, जगन मीणा ने मिलकर घायलों का उपचार किया तथा गंभीर घायलों को रैफर किया।


लोगों ने किया सहयोग
भिड़न्त के बाद मौके पर बासनी के दर्जनों ग्रामीणों ने पुलिस व प्रशासन को सहयोग किया। ग्रामीणों ने क्षतिग्रस्त बस व टे्रलर से घायलों व मृतक को निकालने में पुलिस की मदद की। इधर, प्राथमिक उपचार के बाद रैफर किए जा रहे घायलों को स्थानीय युवक नीरज शर्मा, बृजेश भारद्वाज, गौरव शर्मा ने सहयोग कर एम्बूलेंस में शिफ्ट कराया। जिससे घायलों को अविलम्ब रैफर किया जा सका।

 


अस्पताल में मची चीख-पुकार
हादसे के बाद जैसे ही घायलों को अस्पताल लाया गया, घायलों की चीख-पुकार से परिसर गंूज उठा। हालांकि चिकित्सक व चिकित्साकर्मियों ने घायलों की संभाल शुरू कर दी, लेकिन दर्द के मारे घायल कराह उठे। इस दौरान स्थानीय लोग उन्हें ढांढ़स दिला रहे थे। उधर, हादसे स्थल पर काफी देर तक यातायात बाधित रहा, जिसे हिण्डौली पुलिस ने मशक्कत कर खुलाया।



राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned