राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना का गेहूं उठाने वाले सरकारी कर्मचारियों से वसूले 35 लाख रूपए

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना का गेहूं उठाने वाले सरकारी कर्मचारियों से वसूले 35 लाख रूपए

 

By: pawan sharma

Published: 26 Aug 2020, 08:22 AM IST

टोंक. राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना का गेहंू उठाने वाले कर्मचारियों से रसद विभाग ने 35 लाख रुपए वसूल लिए हैं। अभी भी कई कर्मचारी ऐसे हैं, जिनसे राशि वसूलनी है। उनके रसद विभाग ने नोटिस जारी किए हैं। जिला रसद अधिकारी विनिता शर्मा ने बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना का गेहूं चयनितों को मिलता है, लेकिन जिले के कई कर्मचारियों ने चयनित बनकर गेहूं ले लिया था। गत महीनों में इसकी जांच की गई तो ऐसे 861 कर्मचारी मिले, जिन्होंने गेहूं उठाया था। रसद विभाग ने इन कर्मचारियों से 30 रुपए प्रति किलो के हिसाब से 35 लाख रुपए वसूल लिए हैं। अभी भी कई कर्मचारी ऐसे हैं, जिनसे राशि वसूलनी है। उन्हें नोटिस दिया गया है।

उलझन में विभाग
रसद विभाग अभी भी राशि वसूलने में उलझन में है। विभाग ने होमगार्ड व आशा सहयोगी, कार्यकर्ता व अन्य संविदाकर्मियों को भी नोटिस भेजा है, लेकिन उनका मानदेय एक तो कम है और वह नियमित भी नहीं है। ऐसे में उनसे गेहूं की राशि वसूले या नहीं, इसको लेकर मंथन चल रहा है। हालंाकि अभी निदेशालय से ऐसा कोई स्पष्ट आदेश नहीं होने पर विभाग के पास उलझन बनी हुई है।

जिले में एनएफएस योजना का गेहूं उठाने वाले कर्मचारियों की सूची बनाकर नोटिस दिए गए थे। इनमें से 861 से 35 लाख रुपए वसूल किए गए हैं। बाकी को नोटिस दिया गया है।
विनिता शर्मा, जिला रसद अधिकारी टोंक

अस्पताल परिसर में तोड़-फोड़
आवां. कस्बे में स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र परिसर में सोमवार रात समाजकंटकोंं ने तोड़-फोड़ की। कम्पाउंडर विनोद चौधरी ने बताया कि मंगलवार तडक़े जब वो अस्पताल पहुंचे तो वहां परिसर में लगे पत्थर के पोल टूटे हुए थे।
पानी का टैंक भी क्षतिग्रस्त हालत में मिला।

पूरे परिसर में ईंटों के टुकड़े और शराब की बोतलें फैली हुई थी। अस्पताल परिसर की बिगड़ी हालत देखकर घटना की शिकायत आवां चौकी कांस्टेबल मुकेश चौधरी को की, जिसने घटनास्थल पर पहुंच कर अस्पताल परिसर का मुआयना कर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned