scriptSchool shifting with sunshine and shade in this village of Tonk | टोंक के इस गांव में धूप व छांव के साथ खिसकता स्कूल | Patrika News

टोंक के इस गांव में धूप व छांव के साथ खिसकता स्कूल

2016 में मर्ज स्कूल ग्रामीणों की मांग पर 2020 में खुला
भवन जर्जर, विद्यालय में सुविधाओं के नाम पर कुछ नहीं
५८ से बढ़ कर ८३ हुआ नामांकन

टोंक

Updated: November 18, 2021 12:11:28 pm


टोंक. प्रदेश की स्कूलों में कही नामांकन कम तो कही बच्चों के कम होने के मामले सामने आते रहे है, वहीं जिले के सआदतनगर एक स्कूल प्राथमिक विद्यालय ऐसा भी है, जो रिकॉर्ड में शिक्षक विहिन है, हालांकि इसमें करीब डेढ़ वर्ष से एक शिक्षक प्रतिनियुक्ति पर शिक्षण कार्य करवा रहा है। सुविधाओं व जीर्ण-शीर्ण भवन के चलते कक्षाएं धूप-छांव के स्थान कक्षाएं भी स्थान बदलती है।मर्ज हुए इस विद्यालय में चार कमरे थे, जिन्में दो कमरों व बरामदे की पट्टियां टूट चुकी है। वहीं अन्य दो कमरे भी क्षतिग्रस्त होने के कारण विद्यार्थियों को बैठाए जाने की स्थिति में नहीं है। बच्चों के बैठने के लिए दरी पट्टियां नहीं होने के कारण बच्चें बिछौना भी घर से लेकर आते है।
उनियारा उपखण्ड के सहादत नगर ग्राम पंचायत मुख्यालय पर वर्ष २०१६ में राजकीय प्राथमिक विद्यालय अन्य विद्यालय में मर्ज हो गया। ग्रामीणों की मांग पर इस विद्यालय को शिक्षा विभाग ने अप्रेल २०२० में पुन: संचालित करने की स्वीकृति जारी कर दी, लेकिन विद्यालय भवन व सुविधाएं जुटाने पर ध्यान नहीं दिया। ऐसे में ५८ बच्चों से वापस विद्यालय शुरू हो गया। वहीं शिक्षा विभाग की ओर से विद्यालय के लिए अलग से स्टॉफ नियुक्त नहीं होने पर उच्चाधिकारियों ने दूरभाष पर राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय नवाबपुरा से एक शिक्षक विमल प्रसाद को १५ दिवस के लिए प्रतिनियुक्ति पर लगाए जाने के आदेश जारी किए गए, लेकिन अब करीब डेढ़ वर्ष गुजर जाने के बाद भी अधिकारियों ने यहां कोई स्थायी नियुक्ति नहीं की है और ना ही सुविधाएं जुटाने का प्रयास किया।
रजिस्टर घर, ब्लैक बोर्ड नहीं
स्थायी नियुक्ति नहीं होने के कारण यहां सुविधाएं नहीं जुट पाई। यहां सभी कक्षाओं को सामूहिक रूप से बैठाया जाता है। प्रतिनियुक्ति पर लगे शिक्षक रजिस्टर को प्रतिदिन अपने घर ले जाता है और ब्लैक बोर्ड की व्यवस्था नहीं होने के कारण गणित जैसा विषय भी मौखिक रूप से पढ़ाया जा रहा है।
टोंक के इस गांव में धूप व छांव के साथ खिसकता स्कूल
टोंक के इस गांव में धूप व छांव के साथ खिसकता स्कूल
एक भी अध्यापक नहीं
अधिकारिक रूप से राजकीय प्राथमिक विद्यालय सहादत स्कूल में रिकॉर्ड में एक भी अध्यापक नहीं लगाया गया है। डेढ़ वर्ष पूर्व मौखिक आदेश पर प्रतिनियुक्ति होने की भी जानकारी नहीं है।
बजरंग लाल, पंचायत प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी, बिलोता
सुविधाओं का अभाव
यह बात सही है कि विद्यालय में सुविधाओं को पूर्ण रूप से अभाव है। विद्यालय प्रतिनियुक्ति पर एक मात्र शिक्षक के भरोसे है। अभी विभाग की ओर से कोई स्थायी नियुक्ति नहीं की गई है।
राजेश कुमार, मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, उनियारा
जानकारी नहीं
ऐसे किसी विद्यालय का मामला जानकारी में नहीं आया है। निरीक्षण कर बच्चों के लिए सुविधाएं जुटाने व अतिरिक्त शिक्षक की व्यवस्था की जाएगी।
रामनिवास शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी(प्रारम्भिक), टोंक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

भाजपा की दर्जनभर सीटें पुत्र मोह-पत्नी मोह में फंसीं, पार्टी के बड़े नेताओं को सूझ नहीं रह कोई रास्ताविराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, भावुक मन से बोली ये बातAssembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारभारतीय कार बाजार में इन फीचर के बिना नहीं बिकेगी कोई भी नई गाड़ी, सरकार ने लागू किए नए नियमUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावमौसम विभाग का इन 16 जिलों में घने कोहरे और 23 जिलों में शीतलहर का अलर्ट, जबरदस्त गलन से ठिठुरा यूपीBank Holidays in January: जनवरी में आने वाले 15 दिनों में 7 दिन बंद रहेंगे बैंक, देखिए पूरी लिस्टUP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्य
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.