बाइक पर लिफ्ट दे विवाहिता के साथ छेड़छाड़ करना चालक को पड़ा भारी, न्यायालय ने दो साल की सजा के साथ दो हजार रूपए का भी किया जुर्माना

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

By: pawan sharma

Published: 19 Jan 2019, 04:14 PM IST

टोंक. छेड़छाड़ के दो अलग-अलग मामले में न्यायालय ने शुक्रवार को दो अभियुक्तों को सजा सुनाई। इसमें एक अभियुक्त को 5 साल तथा दूसरे को दो साल की सजा हुई है। दोनों ही मामलों में न्यायालय अलग-अलग है।

 

बरोनी थाना क्षेत्र की विवाहिता के साथ हुई छेड़छाड़ के मामले में अपर जिला एवं सैशन (फास्ट ट्रेक) न्यायाधीश ललिता शर्मा ने अभियुक्त को दो साल की सजा व दो हजार रुपए का जुर्माना किया है।


अपर लोक अभियोजक दीपक गौतम ने बताया कि अभियुक्त बरोनी थाना क्षेत्र के करीरिया गांव निवासी भैरूंलाल पुत्र कल्याण बैरवा है। उस पर एक जने ने 24 अक्टूबर 2014 को आरोप लगाया था कि उसकी पत्नी दोपहर में पिहर जाने के लिए घर से निकली थी और सडक़ पर बस का इंतजार कर रही थी।

 

इस दौरान आरोपी बाइक से आया और निवाई बायपास पर छोडऩे को कहा। जानकार होने के कारण विश्वास में विवाहिता बाइक पर बैठ गई। इसके बाद आरोपी उसे निवाई बायपास ले जाने के बजाए रेलवे ट्रेक की पगडंडी की ओर ले गया और छेड़छाड़ करने लगा।

 

इस पर महिला वहां से जैसे-तैसे कर भाग गई। परिजनों को आपबीती बताने के बाद मामला बरोनी थाने में दर्ज कराया गया। पुलिस ने मामले की जांच की और आरोपी के खिलाफ न्यायालय में चालान पेश किया।

 

इसमें अभियोजन पक्ष की ओर से 12 गवाह, 13 दस्तावेज पेश किए। जबकि बचाव पक्ष की ओर से महज 3 गवाह पेश किए गए। न्यायालय ने मामले की सुनवाई कर अभियुक्त भैरूंलाल को आईपीसी की धारा 354 में दोषी माना और दो साल की सजा सुनाई।

 

साथ ही दो हजार रुपए का जुर्माना भी किया। वहीं दूसरे मामले में लैगिंग अपराधों से बालकों का संरक्षण न्यायालय के विशिष्ठ न्यायाधीश रमाकांत शर्माने टोडारायसिंह थाना क्षेत्र के पवालिया निवासी अभियुक्त श्रवण पुत्र प्रताप मोग्या को 5 साल की सजा व 5 हजार रुपए का जुर्माना किया है।

 

विशिष्ठ लोक अभियोजक देवीप्रकाश तिवाड़ी ने बताया कि 25 सितम्बर 2015 को नाबालिक भैंस चरा रही थी। इस दौरान आरोपी श्रवण मोग्या ने उसके साथ छेड़ाछड़ की।

 

विरोध करने पर आरोपी ने उसके साथ मारपीट की। इससे वह घायल हो गई। पुलिस ने मामला दर्जकर पीडि़ता का मेडिकल कराया और न्यायालय में चालान पेश किया। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से 14 गवाह व 14 दस्तावेज पेश किए गए। न्यायालय ने मामले की सुनवाईकर श्रवण मोग्या को दोषी माना और उसे सजा सुनाई।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned