बाधाओं का मुकाबला कर मिसाल बनी सोना, सीएम आज करेंगे सम्मानित

सोना बैरवा का संघर्ष लोगों व समाज के लिए मिसाल बन गया। सोना द्वारा किए गए संघर्ष व उसके द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्यो के लिए सीएम अशोक गहलोत बालिका दिवस पर आज जयपुर में आयोजित राज्यस्तरीय में समारोह में उसका सम्मान करेंगे।

By: pawan sharma

Published: 11 Oct 2021, 09:09 AM IST

टोंक . महज 6 वर्ष की उम्र में बाल विवाह होने के बाद ससुराल की पाबंदियों के बाद भी जीवन में कुछ बनने का लक्ष्य लेकर सोना बैरवा का संघर्ष लोगों व समाज के लिए मिसाल बन गया। सोना द्वारा किए गए संघर्ष व उसके द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्यो के लिए सीएम अशोक गहलोत बालिका दिवस पर आज जयपुर में आयोजित राज्यस्तरीय में समारोह में उसका सम्मान करेंगे।


सोना का जन्म सांखना ग्राम पंचायत के राजनगर गांव में 2 अप्रेल 1993 को हुआ था। 4 वर्ष की उम्र में चार बहनों के साथ उसका बाल विवाह कर दिया गया। इनमें से सोना एवं बड़ी बहन राजंती का विवाह एक ही परिवार में हुआ। गांव में कक्षा 3 एवं सांखना में कक्षा 6 तक पढ़ाई करने के बाद उसने आगे के लिए 12 वर्ष की उम्र में भीमराव अंबेडकर आवासीय विद्यालय अटून भीलवाड़ा में दाखिला लिया।

कक्षा 8 तक पढऩे के बाद घर जाने पर सोना के ससुराल से पढ़ाई छोड़ कर पति के साथ रहने का दबाव बनाया गया। माता-पिता ने भी सहमति दे दी, लेकिन सोना ने मना कर पढ़ाई करने चली गई। ससुराल की नाराजगी के बीच आवासीय विद्यालय में कला वर्ग में कक्षा बारहवीं में प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण कर 2010 में घर आ गई।

आर्थिक तंगी कॉलेज में प्रवेश के लिए बाधा बनी तो सोना ने घर पर सिलाई एवं बच्चों को पढ़ाने का काम शुरू कर दिया। बाद में उसने तलाक ले लिया। पिताजी ने जमीन गिरवी रखकर बीए के बाद बीएड कॉलेज में दाखिला करवाया। गांव में बच्चों को पढ़ाते देख लाडली सम्मान अभियान में सम्मानित होने के बाद बालिका गरिमा संरक्षण सम्मान के साथ यूएन 52 देशों के शार्क सम्मेलन में स्पीच दी। सोना के संघर्ष को देखते हुए महिला अधिकारिता विभाग द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की टोंक जिले की ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया गया। अब वह एनजीओ के साथ बालिकाओं को जागरूक कर रही है। उसने जिले में कई बाल विवाह भी रुकवाए हैं।

सीएम करेंगे सम्मानित
अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर राज्य स्तरीय समारोह आयोजन में मुख्य मंत्री अशोक गहलोत पैरा ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता अवनी लखेरा के साथ टोंक की सोना बैरवा को बालिका शिक्षा और कोविड के दौरान पीडि़त परिवारों को मुख्य्मंत्री कोरोना सहायता योजना का लाभ दिलाने के लिए चलाए गए नन्हें हाथ कलम के साथ अभियान में उल्लेखनीय योगदान के लिए सम्मानित करेंगे मुख्य मंत्री निवास पर शाम पांच बजे राज्यस्तरीय भव्य समारोह में राज्य भर से 9 बालिकाएं सम्मानित होगी।

Show More
pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned