पीपलू में महामंडल विधान में 16 स्वप्न नाटिका का किया मंचन

पीपलू में महामंडल विधान में 16 स्वप्न नाटिका का किया मंचन

 

By: pawan sharma

Published: 22 Jan 2021, 08:58 PM IST

पीपलू (रा.क.). कस्बे की चंद्रवाटिका में सकल दिगंबर जैन समाज के धर्मप्रभावना वर्षायोग समिति द्वारा चल रहे श्री धर्मचक्र महामंडल विधान शुक्रवार सुबह श्रीजी के अभिषेक, शांतिधारा नितपूजन से शुरु हुआ। दोपहर में क्षुल्लक नय सागर के सान्निध्य में समवशरण महामंडल विधान की पूजा र्अचना की गई, जिसमें संगीत की मधुर स्वरलहरियों के बीच संस्कृत मंत्रों के बीच विधान शुरु हुआ।

इंद्र-इंद्राणियों एवं श्रावक श्राविकाओं ने नाचते-गाते विधान पूजन में मंत्रों के उच्चारण पर अघ्र्य अर्पित किए। विधान पूजन में सौधर्म इन्द्र, चक्रवर्ती, धनकुबेर, महायज्ञनायक, बाहुबली, यज्ञनायक, इशान इन्द्र, सानत कुमार इन्द्र, महेन्द्र आदि इन्द्र इन्द्राणियों ने भक्ति भाव में मग्न हो नाचते गाते विधान पूजन किया और अघ्र्य अर्पित किए। संस्कृत मंत्रों भजनों से पूरा परिसर भक्तिमय हो रखा है।

क्षुल्लक नयसागर ने कहा कि जैन दर्शन कहता है अपने घर के बुजुर्गों की सच्चे मन से सेवा करना ही कई जैन मुनि की सेवा करने के बराबर होता है। माता-पिता अपनी बेटियों को पढ़ा-लिखाकर योग्य बनाएं। साथ ही मांसाहार के स्थान पर हमेशा शाकाहार भोजन करें, जो कई बीमारियों से बचा सकता है।

16 स्वप्न नाटिका का मंचन
चंद्रवाटिका में समवशरण रचना के दौरान गुरुवार रात्रिं को माता शिवदेवी को 16 स्वप्न नाटिका मंचन किया गया, जिसमें पंचकल्याणक के गर्भकल्याणक का परिदृश्य दिखाया गया। तीर्थंकर माता शिवदेवी को 16 स्वप्न का मनमोहक मंचन किया गया। इसमें अष्टकुमारियों ने माता के दरबार में सेवा की। नाटिका मंचन के दौरान महिला और पुरुष श्रद्धालुओं ने भक्ति भजनों पर नृत्य किया।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned