संक्रमण के भय से सूनसान रहा राजकीय अस्पताल

महिला के कोरोना संक्रमित पाएं जाने का असर, अस्पताल जाने से बचने लगे लोग
देवली. हनुमाननगर क्षेत्र के धुंवाला गांव निवासी 22 वर्षीय महिला के गत दिनों कोरोना संक्रमित पाएं जाने का असर राजकीय अस्पताल के आउटडोर व इंडोर पर पड़ा है। जहां चिकित्साकर्मियों के कोरोना जांच के सेम्पल लिए जाने के दूसरे दिन अस्पताल सूना रहा है।

By: jalaluddin khan

Published: 29 May 2020, 08:52 PM IST

संक्रमण के भय से सूनसान रहा राजकीय अस्पताल
महिला के कोरोना संक्रमित पाएं जाने का असर, अस्पताल जाने से बचने लगे लोग
देवली. हनुमाननगर क्षेत्र के धुंवाला गांव निवासी 22 वर्षीय महिला के गत दिनों कोरोना संक्रमित पाएं जाने का असर राजकीय अस्पताल के आउटडोर व इंडोर पर पड़ा है। जहां चिकित्साकर्मियों के कोरोना जांच के सेम्पल लिए जाने के दूसरे दिन अस्पताल सूना रहा है।

इस दौरान सामान्य दिनों के मुकाबले 50 फीसदी लोग ही अस्पताल में उपचार कराने आएं। उल्लेखनीय है कि धुंवाला निवासी महिला गत दिनों प्रसव के लिए देवली आई थी।

जिसका गत 25 मई रात प्रसव हुआ तथा प्रसव के बाद बच्चे की तबीयत खराब होने पर चिकित्सकों ने महिला को टोंक रेफर कर दिया। टोंक में महिला की कोरोना जांच की किए जाने पर संक्रमित होने की पुष्टि हुई। इसके बाद से अस्पताल प्रशासन व शहर में हड़कम्प मच गया।

स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार संक्रमित महिला के सम्पर्क में आएं चिकित्सक, नर्सिंगकर्मी, एम्बूलेंस चालक सहित 13 जनों के गुरुवार सुबह सेम्पल लिए गए।

चिकित्साकर्मियों के सैम्पल लेने की सूचना के बाद शुक्रवार को अस्पताल प्रशासन सूनसान रहा। प्रतिदिन औसतन 400 रोगी वाले अस्पताल में पिछले दिनों के मुकाबले शुक्रवार को 50 प्रतिशत रोगी आए।

इस दौरान रोगियों का आउटडोर 175 के आसपास रहा। इसी प्रकार अस्पताल के इंडोर भी सामान्य दिनों के मुकाबले कम रहा।

संक्रमण के भय के मारें ग्रामीण व शहरी दोनों क्षेत्रों से रोगी नहीं आएं। गौरतलब है कि धुंवाला निवासी महिला के कोरोना संक्रमित होने का क्षेत्र का पहला मामला है।


आवां में लिए चार जनों के सेम्पल लिए
आवां. देवली की मेडिकल टीम ने शुक्रवार को आवां में चार जनों को संदिग्ध मानकर सेम्पल लिए। देवली मेडिकल टीम ने पुलिस चौकी आवां स्टाफ के साथ चार संदिग्धों के सेम्पल लिए हैं।

पुलिस चौकी आवां से मुकेश चौधरी ने बताया कि पिछले दिनों एक महिला महाराष्ट्र से आई थी। उसे संदिग्ध मानते हुए उसका कोरोना जांच के लिए सेम्पल लिया है, इसके अलावा उसके साथ संपर्क में रहने वाले एक बच्चे, व दो युवकों के भी सेम्पल लिए गए।


संक्रमित क्षेत्र में सर्वे शुरू
नटवाड़ा(टोंक). हतौना गांव में कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद संक्रमित महिला के घर से एक किलोमीटर के क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित कर सील किया गया, जिससे गांव में सन्नाटा छा गया। संक्रमित रोगी के मोहल्ले में सेनेटाइजर का छिड़काव करवाया गया एवं कटीली झाडिय़ा और बैरेकेड्स लगाकर मोहल्ले में आवाजाही पर पूरी तरह प्रतिबन्ध लगा दिया गया।

पीएचसी पराना के चिकित्साधिकारी डॉ. दिशा हसानी ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद गांव में अलग-अलग टीम बनाकर सर्वे करवाया जा रहा है।


टीम ने दस प्रवासियों के लिए रेण्डम सेम्पल
दूनी. तहसील मुख्यालय सहित तीन कस्बों में चिकित्सा विभाग टीम ने बाहर राज्य से आए प्रवासियों के शुक्रवार को रेण्डम सेम्पल लिए गए, जिन्हें जांच के लिए जयपुर भेजा जाएंगा।

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र दूनी के चिकित्सा प्रभारी डॉ. सुनील शर्मा ने बताया कि विभाग की गठीत टीम में शामिल लैब-टेक्नीशियन अजय मेहरा व ओमप्रकाश बैरवा सहित चिकित्साकर्मियों ने दूनी में 3, आवां में 4 व घाड़ में 3 महाराष्ट्र, गुजरात सहित अन्य राज्यों से आए प्रवासियों के रेण्डम सेम्पल लिए गए।

jalaluddin khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned