परीक्षाओं व प्रतियोगिताओं में अव्वल रहे विद्यार्थियों को नवाजा

राजस्थान उपभोक्ता प्रतितोष आयोग के सदस्य रामफू ल गुर्जर ने कहा कि पानी व प्रतिभाएं अपना रास्ता स्वयं बना लेती है और प्रतिभाओं को कोई कुचल नहीं सकता। ये विचार राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय भरथला में आयोजित वार्षिकोत्सव व भामाशाह सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि पद से कही।

By: MOHAN LAL KUMAWAT

Updated: 01 Mar 2020, 10:58 AM IST

निवाई. राजस्थान उपभोक्ता प्रतितोष आयोग के सदस्य रामफू ल गुर्जर ने कहा कि पानी व प्रतिभाएं अपना रास्ता स्वयं बना लेती है और प्रतिभाओं को कोई कुचल नहीं सकता। ये विचार राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय भरथला में आयोजित वार्षिकोत्सव व भामाशाह सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि पद से कही।


इस अवसर पर भामाशाह सत्यनारायण वैष्णव व सीताराम मीणा ने 21-21 हजार रुपए, श्रीराम मीणा व पूर्व छात्रों ने 11-11 हजार रुपए की देने घोषणा की। खाद्य सुरक्षा अधिकारी मदनलाल गुर्जर ने योग के माध्यम से स्वस्थ रहने के गुर बताए। प्रधानाचार्य गिरिराज प्रसाद गुर्जर ने विद्यार्थियों को भविष्य के लिए सतत प्रयत्नशील रहने की प्रेरणा दी।


समारोह में अतिथियों ने विद्यालय में बोर्ड परीक्षाओं में सर्वोच्च स्थान प्राप्त करने पर बालक बालिकाओं को मेडल, प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर अन्य गतिविधियों में अव्वल आने वाले छात्रों को भी पुरस्कृत किया गया।

मालपुरा. भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के राष्ट्रीय अनुसंधान प्रबंध अकादमी हैदराबाद व तेलंगाना से केन्द्रीय भेड़ एवं ऊन अनुसंधान संस्थान अविकानगर में प्रशिक्षण प्राप्त करने आए वैज्ञानिकों के दल ने शनिवार को राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय चौसला में विद्यार्थियों को विज्ञान के महत्व के बारे में जानकारी दी।


अविकानगर संस्थान के वैज्ञानिक डॉ राजकुमार ने विद्यार्थियो को सम्बोधित करते हुए कहा कि विद्यार्थियों को किताबी ज्ञान के साथ साथ प्रायोगिक ज्ञान भी सीखना चाहिए। प्रधानाचार्य रामसहाय गोयल ने विज्ञान का महत्व बताया।


वहीं कार्यक्रम में संस्थान से आए वैज्ञानिक सीमा श्योरान, महेश कुमार समोता, सौरभ कुमार, राहुल बेनर्जी, धन्या बीजे, राजेश्वर सनोदिया ने भी विद्यार्थियों सेविज्ञान से विकास की सम्भावनाओं पर चर्चा की।


पीपलू(रा.क.). वैज्ञानिक सर सी.वी. रामन की स्मृति में जयकिशनपुरा विद्यालय में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया गया। इस दौरान शिक्षक दिनकर विजयवर्गीय, राकेश नामा ने विद्यार्थियों को बताया कि विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले रमन पहले एशियाई थे।

उनका आविष्कार उनके ही नाम पर ‘रमन प्रभाव’ के नाम से जाना जाता है। इस आयोजन के द्वारा मानव कल्याण के लिए विज्ञान के क्षेत्र में घटित होने वाली प्रमुख गतिविधियों, प्रयासों और उपलब्धियों को प्रदर्शित किया जाता है। इस दौरान प्रधानाध्यापक रामगोपाल शर्मा, शिक्षक मोहनलाल, रायसिंह आदि भी मौजूद रहे।

MOHAN LAL KUMAWAT
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned