अधूरे नालें निर्माण ने बढ़ाई लोगों की परेशानी

अधूरे नालें निर्माण ने बढ़ाई लोगों की परेशानी

 

By: pawan sharma

Published: 04 Dec 2020, 07:59 PM IST

टोंक . वार्ड 55 में एक साल में कोई नया काम नहीं हुआ। इतना ही नहीं संतोष नगर में बारिश के वक्त तो घुटनों तक पानी से निकलना पड़ता है। वार्ड के निवासी अनिल विजय ने बताया कि बमोर रोड के समीप नाला बना हुआ है, लेकिन वह हाइवे से बनना था, जिसे अधूरा छोड़ दिए जाने से यह नाला कॉलोनी वासियों के लिए दुखदायी बन गया है।


वार्ड के लोगों ने बताया कि बरसात के पानी के निकासी के रास्तों पर लोगों ने अतिक्रमण कर लिया है। इस कारण बरसात में यहां बाढ़ के हालात हो जाते है। वार्डवासियों का कहना है कि एक साल में ना तो नालियां बनी ना ही सडक़ों का निर्माण हो पाया है, जिससे यह वार्ड विकास में पिछड़ गया है।


लोगों ने बताया कि बमोर रोड पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुकी है, जिस पर झाडू लगाते समय पूरे क्षेत्र में धूल ही धूल उड़ती रहती है, जिससे लोगों को सांस लेने तकलीफ होती है। साथ ही दुकानों पर सामान पर धूल जम जाती है। वार्ड के लोगों ने यह भी बताया कि इस रोड पर आधा दर्जन से अधिक मापदण्ड से अधिक बड़े स्पीड ब्रैकर होने से आए दिन वाहनों में नुकसान हो रहा है। लोगों ने यह भी बताया कि बमोर मार्ग पर रोड लाइट बंद रहने से रात को अंधेरा रहता है।

एक साल में कोई काम नही होने से वार्ड वासियों में नाराजगी है। कुछ जगह झींकरा जरूर डाला गया है, लेकिन वह भी पर्याप्त नही है। परिषद से 150 ट्यूब लाइटों की मांग की गई थी, जिसमे से सिर्फ 5 ही मिली है। वहीं नालियां व सडक़ नहीं होने के कारण काऊ कैचर की डिमांड ही नहीं की गई थी।

पेयजल की भी वार्ड में अधिक परेशानी है। इस कारण संतोष नगर ही नहीं बल्कि कई इलाकों की महिलाओं को एक किमी दूर हाइवे पार करके पीने का पानी लेने आना पड़ता है। 7 सडकों व नालियों का प्रस्ताव नगर परिषद को भेजे है, लेकिन अभी तक एक भी मंजूर नहीं किया गया।
हरेन्द्र सांसी, वार्ड पार्षद


हाइवे से लाना पड़ता है मीठा पानी
वार्ड 56 में काफी समय से पेयजल संकट गहराया हुआ है। वार्ड के लोगों को पीने के लिए मीठा पानी हाइवे से लाना पड़ता है। जबकि वार्ड में दो ट्यूबवेल है, लेकिन दोनों का ही पानी खारा हाने के कारण पीने योग्य नहीं है। वार्ड निवासी कुमकुम, खुशी ने बताया कि वार्ड में एक ट्यूबवेल का तो पानी बिल्कुल ही खारा है, जिससे चाय तक नहीं बन पाती है वहीं एक ट्यूबवेल से काम चल जाता है, लेकिन वह भी एक महीने से खराब है।


कई बार पार्षद व जलदाय विभाग को समस्या से अवगत कराया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। वार्ड के ही राजू बैरवा, राशिद मिया का कहना है कि एक साल में कोई काम नहीं हुआ है। वार्ड में सभी सडक़ें क्षतिग्रस्त हो चुकी है। नालियों के अभाव में पानी सडक़ पर बहता हुआ नजर आता है। इस रास्ते में जमा गंदगी के कारण लोगों को आवागमन में परेशानियों को सामना करना पड़ता है।

लोगों ने बताया कि क्षेत्र में सीवरेज का काम होने के बाद सडक़ों का निर्माण नहीं किया गया है। इस कारण कई जगहों पर सीवरेज के चेम्बर ऊंचाई तक उठे हुए है, जिनके कारण आए दिन दुर्घटनाएं हो रही है। लोगों ने बताया कि अन्नपूर्णा रोड पर नाले में जमा कीचड़ व बदबू से लोगों का जीना दुश्वार हो रहा है।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned