मिल रही तारीख पर तारीख, नही हट सका तीस साल से खेल मैंदान का अतिक्रमण

मिल रही तारीख पर तारीख, नही हट सका तीस साल से खेल मैंदान का अतिक्रमण

 

By: pawan sharma

Published: 30 Sep 2020, 06:23 PM IST

राजमहल. जिला कलक्टर टोंक की ओर से 1989 राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के खेल मैदान व भवन निर्माण के लिए आठ बीघा भूमि आंवटित की गई थी, जिस पर अब तक निर्माण के नाम पर प्रशासन एक ईंट तक नहीं लगा सका। वहीं अतिक्रमण हटाने के नाम पर तीस साल से खानापूर्ति हो रही है।


यहां हर वर्ष खेल मैदान से अतिक्रमण हटाने के लिए पंचायत प्रशासन की ओर से मामले को उठाया तो जाता है, लेकिन प्रशासन का सहयोग नहीं मिलने मामला शांत हो जाता है। यहां हर वर्ष हल्का पटवारी व गिरदावरों की ओर से सीमाज्ञान व पैमाइश के साथ ही खाली पड़ी भूमि पर जेसीबी चलाकर सिर्फ सफाई कार्य करवाया जाता है, जिससे लगभग 30 वर्ष से अधिक गुजरने के बाद भी खेल मैदान भूमि से ना तो अतिक्रमण हट पाया और ना ही जिला कलक्टर के आदेशों की पालना में निर्माण कार्य हो पाया है।

इसी प्रकार खेल मैदान से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई को लेकर उपखण्ड अधिकारी के निर्देश पर मंगलवार को फिर से खेल मैदान भूमि पर सिर्फ खाली पड़ी भूमि पर सफाई कार्य करवाया गया। सफाई कार्य करवाकर हल्का पटवारी व गिरदावर ने भूमि की पैमाइश का कार्य किया गया।

अतिक्रमण के आगे हारे नियम व शर्ते
तत्कालीन जिला कलक्टर टोंक ने खेल मैदान भूमि के लिए आवंटित की गई भूमि पर निर्माण के लिए 2 जनवरी 2002 को आदेश जारी कर देवली तहसीलदार व विद्यालय के प्रधानाचार्य को प्रतिलिपी भेजकर नियम व शर्तों से अवगत करवाया गया था, जिसमें अगले 2 वर्ष में ही उक्त भूमि पर भवन व चारदीवारी आदि का निर्माण करवाना था, लेकिन सालोंं गुजर जाने के बाद भी निर्माण तो दूर अतिक्रमण तक नहीं हटा पाया है।

खेल मैदान व गैर मुमकिन नाले पर बना दी सडक़-राजस्व विभाग की अनदेखी के चलते विद्यालय के खेल मैदान को तो लोगों ने कब्जे में लेकर अतिक्रमण कर डाला। साथ ही विभाग की अनदेखी के कारण पिछले कई वर्षों पूर्व सार्वजनिक तालाब के मुख्य जलस्त्रोत बरसाती गैर मुमकिन किरोलिया नामक नाले पर देवीखेड़ा के लिए डामरीकरण सडक़ तक बना डाली।

खेल मैदान से अतिक्रमण हटाने के लिए तैयार है, लेकिन राजस्व विभाग हर वर्ष प्रभावशाली लोगों के प्रभाव के चलते सीमाज्ञान में गड़बड़ी करता रहा है। ग्राम पंचायत प्रशासन तक को अतिक्रमण के नाम पर गुमराह कर रहे है। सरकारी भूमि पर अतिक्रमण तो है चाहे वो खेल मैदान भूमि हो या फिर अन्य सरकारी भूमि। अतिक्रमण हटाना प्रशासन का कार्य है, जिसमें पंचायत प्रशासन का पूरा सहयोग प्रशासन के साथ है। राजमहल ग्राम पंचायत को वर्षों से तारीख पर तारीख दी जा रही है।
किशन गोपाल सोयल, सरपंच, ग्राम पंचायत राजमहल।

चार बीघा पर है अतिक्रमण
खेल मैदान भूमि का मंगलवार को राजस्व विभाग देवली की टीम ने पैमाइश किया गया है, जिसमें आठ बीघा खेल मैदान में से चार बीघा भूमि ही सुरक्षित पाई गई है। शेष चार बीघा भूमि पर अतिक्रमण हो रखा है। इसी प्रकार खेल मैदान के आस पास के करीबी क्षेत्र में जिसमें चरागाह आदि सरकारी भूमि पर भी लोगों ने अतिक्रमण कर बाडें़, रोडियां, भूखण्ड आदि बनाकर कब्जा कर रखा है।
भंवर लाल शर्मा, गिरदावर राजमहल

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned