scriptThe eyes of the tourism department are not on the ancient city | प्राचीन शहर पर नहीं है पर्यटन विभाग की नजरें | Patrika News

प्राचीन शहर पर नहीं है पर्यटन विभाग की नजरें

टोंक स्थापना दिवस पर विशेष
जिलेभर में पर्यटन की असीम सम्भावानाएं
टोंक. टोंक जिला पर्यटन की असीम सम्भावनाएं समेटे हुए है, लेकिन पर्यटन विभाग इस ओर अनदेखी बरत रहा है। हर बार पयर्टन विकास समिति की बैठक होती है, लेकिन यह महज खानापूर्ति बनकर रह जाती है।

टोंक

Published: December 27, 2021 09:00:25 pm

प्राचीन शहर पर नहीं है पर्यटन विभाग की नजरें
टोंक स्थापना दिवस पर विशेष
जिलेभर में पर्यटन की असीम सम्भावानाएं
टोंक. टोंक जिला पर्यटन की असीम सम्भावनाएं समेटे हुए है, लेकिन पर्यटन विभाग इस ओर अनदेखी बरत रहा है। हर बार पयर्टन विकास समिति की बैठक होती है, लेकिन यह महज खानापूर्ति बनकर रह जाती है।
प्राचीन शहर पर नहीं है पर्यटन विभाग की नजरें
प्राचीन शहर पर नहीं है पर्यटन विभाग की नजरें

जबकि टोंक में खेड़ा सभ्यता २०० हजार साल पुरानी है। हाथी भाटा महाभारत काल से जुड़ा हुआ है। इसके अलावा जिले में कई स्थल, महल व बावडिय़ां कई इतिहास लिए हैं। उन्हें पर्यटन में शामिल किया जाए तो जिला विकास के पथ पर तेजी से कदम बढ़ा सकता है।
जब शहर में विश्व विख्यात सुनहरी कोठी अपने में नायाब सौंदर्य समेटे हुए है। यह अभी तक उसी रूप में है जैसा की पौने दो सौ साल पहले इसके निर्माण के बाद था। यहां की जामा मस्जिद बनावट और मीनाकारी से हैदराबाद की चार मीनार से ज्यादा नहीं तो कम भी नहीं। अरावली शृंखला की यहां स्थित पर्वतमाला की सबसे ऊंची चोटी पर बनी रसिया की छतरी पर पर्यटन विभाग माउंटेन क्लाइंबिंग की व्यवस्था कर दे तो ना केवल टोंक के लोग बल्कि पर्यटक भी इसका लुत्फ उठा सकते हैं।
बनास का पुराना फ्रेजर पुल, चतुर्भुज तालाब, अन्नपूर्णा डूंगरी पर बना गणेश मंदिर, एक दर्जन से ज्यादा बाग, कच्चा बंधा, दरिया शाह की बावड़ी, बड़ा तकिया, छोटा तकिया, हवेलियां आदि यहां पर्यटन की दृष्टि से सब कुछ यहां है। जिले की बात की जाए तो हाथीभाटा को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा सकता है।
निवाई और चांदसेन में भृंगोंजी की गुफा, बनेठा की पुरातात्विक महत्व की छत्रियां, निवाई के गर्म एवं ठंडे कुंड, बगड़ी का किला, दादाबाड़ी, टोरडी बांध का रमणीक स्थल, टोडारायसिंह की बावडियां, झांसी की रानी के महल, बुध सागर, पीपाजी का मंदिर, बीसलपुर बांध, बीसलदेव का मंदिर समेत कई दर्शनीय स्थल हैं जो पर्यटन मानचित्र पर अपनी जगह बना सकते हैं।
टोंक स्थापना महोत्सव समिति अध्यक्ष सुजीत कुमार सिंघल बताते हैं कि अफसोस की बात है कि पुरावैभव से संपन्न होने के बाद भी इस वैभव की जानकारी और संरक्षण की कोई व्यवस्था पर्यटन विभाग ने नहीं कर रखी है। अनदेखी के चलते कच्चे बंधे स्थित आरामगाह और सेरगाह की कोठी अपना अस्तित्व खोती जा रही है।
मेहंदी और रंगोली प्रतियोगिता आज
टोंक स्थापना दिवस पर इनर व्हील क्लब की ओर से मेहंदी और रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन मौलाना अबुल कलाम आजाद अरबी फारसी शोध संस्थान में मंगलवार दोपहर बजे किया जाएगा। अध्यक्ष ममता गर्ग ने बताया कि प्रतियोगिता में जीतने वाले प्रतियोगियों को टोंक स्थापना समिति की ओर से पुरस्कृत किया जाएगा।
टोंक का इतिहास शौर्य और गरिमा से भरा
टोंक. टोंक स्थापना दिवस के तहत चल रहे महोत्सव के तहत सोमवार को मौलाना अबुल कलाम आजाद आजाद अरबी फारसी शोध संस्थान में केलिग्राफी और टोंक के इतिहास से जुड़ी चित्रों की प्रदर्शनी का उद्घाटन मुख्य अतिथि शौकत अली खान ने किया।
इसके बाद नवाब वजीरुद्दोला बहादुर नुसरतजंग और नवाब मोहम्मद अली खां बहादुर सोलतेजंग के जीवन और शासनकाल के महत्वपूर्ण कार्यों पर सेमिनार आयोजित किया गया। इसमे देहली यूनिवर्सिटी के एसोसिएट प्रोफेसर हबीब अहमद मुख्य वक्ता थे।
मुख्य अतिथि पूर्व निदेशक शौकत अली खां थे। अध्यक्षता गांधीवादी विचारक मुजीब आजाद ने की। संस्थान निदेशक डॉ. सौलत अली खान विशिष्ट अतिथि थे। मुख्य वक्ता हबीब अहमद ने कहा कि टोंक का इतिहास नवाब वजीरउद्दोला के शौर्य और गरिमा से भरा पड़ा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.