शहर में विकास की दरकार, पालिका कर रही फिजूलखर्च

शहर में विकास की दरकार, पालिका कर रही फिजूलखर्च

By: pawan sharma

Published: 16 Sep 2020, 07:21 PM IST

निवाई. शहर स्थित बस स्टैंड पर राजस्थान रोडवेज पथ परिवहन निगम के बुंकिग केन्द्र पर लगे टीनशेड को नगरपालिका द्वारा हटाकर 14.29 लाख रुपए का राजस्व खर्च कर फिर से टीनशेड लगाया जा रहा है। जहां एक ओर कोरोना महामारी के चलते सरकार सरकारी कर्मचारियों के वेतन में कटौती कर रही है। इसी प्रकार सरकार में काबिज मंत्रियों के हवाई यात्रा में भी कटौती की गई है।

सरकार ने विभिन्न विकास कार्यों के बजट को कम कर कोरोना महामारी के खर्च कर रही है। वहीं दूसरी ओर नगरपालिका द्वारा 14.29 लाख रुपए का बस स्टैंड पर राजस्थान रोडवेज निगम द्वारा करीब 50 वर्षों से बुंकिग केन्द्र व यात्रियों के बैठने के लिए टीनशेड लगाकर व्यवस्था कर रखी थी, लेकिन बीच-बीच में नगरपालिका द्वारा बुंकिग केन्द्र पर रेलिंग व रंग रोगन करवा गया है। इस बार नगरपालिका ने बिना सोचे समझे टीनशेड को हटाकर टीनशेड लगाए जा रहे, जो किसी संवेदक को विशेष लाभ देने के लिए किया गया है।

इस संदर्भ में सहायक अभियंता तरूण जैन से जानकारी लेने के लिए फोन किया गया, लेकिन फोन रिसीव नहीं किया। इधर, पालिका कनिष्ठ अभियंता दिनेश बैरवा का कहना है कि रोडवेज की बुकिंग केंद्र पर नगरपालिका का स्वामित्व है और शेड पुराना हो गया था तथा यात्रियों पर गिरने लगा था, इसलिए नया टीनशेड लगाया जा रहा है।

बस ग्रामीण क्षेत्र में नहीं रूकने से यात्री परेशान
नटवाड़ा. कोरोना काल में एक ओर जहां केन्द्र एवं राज्य सरकार आवागमन की सुविधा मुहैया करवाने के लिए रोडवेज चलाकर जनता को राहत पहुंचाने की कोशिश कर रही हैं। वहीं विभागीय अधिकारियों, चालक एवं परिचालक की लापरवाही के चलते ग्रामीण क्षेत्र में संचालित रोडवेज निर्धारित बस स्टेण्ड पर नहीं रूकने से जहा रोडवेज को राजस्व हानि हो रही हैं, वही ग्रामीणों को भी निजी वाहनों में यात्रा करने को विवश होना पड़ रहा हैं।

नटवाड़ा सरपंच नीता कंवर ने बताया कि गांव नटवाड़ा में आबादी क्षेत्र से एक किलोमीटर दूर बायपास चौराहे से रोडवेज बस गुजरने से ग्रामीणों को परेशानी हो रही हैं। पराना सरपंच गिर्राज बूरी ने बताया कि जयपुर-शिवाड़ मार्ग पर चलने वाली सरकारी बस के चालक एवं परिचालक की मनमर्जी के चलते सवाई माधोपुर से पराना, नटवाड़ा, नाहरवाड़ी, जुबानपुरा, अभयपुरा, हरड़ा ढाणी सहित एक दर्जन गांवों की सवारियां नहीं बिठाते हैं।


बस नहीं रूकने से यात्रियों को निजी वाहन किराए पर करना पड़ता हैं, जिससे ग्रामीणो को आर्थिक नुकसान को रहा हैं। मुख्य प्रबन्धक डिपो टोंक रामचरण कौचर ने बताया कि कोरोना की वजह से यात्री भार कम रखा हैं। ग्रामीण क्षेत्र में सवारियां उतारने एवं बैठाने के लिए पाबन्द किया जाएगा।

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned