Video : दबाव में बनाई सडक़ खुद ने ही तोड़ी, अब बोले रात में बना दी थी

टोंक. शहर में चल रहे सीवरेज कार्य के तहत आरयूआईडीपी ने तोड़ी गई सडक़ों की सुध दो साल में भी नहीं ली

By: pawan sharma

Published: 10 Feb 2018, 11:35 AM IST

टोंक. शहर में चल रहे सीवरेज कार्य के तहत आरयूआईडीपी ने तोड़ी गई सडक़ों की सुध दो साल में भी नहीं ली, लेकिन अम्बेडकर कॉलोनी में राजनैतिक दबाव के चलते जो सडक़ रातों-रात बना दी, उसे अब तोड़ दिया गया है। कहा जा रहा है कि ये किसी व्यक्ति विशेष के घर के बाहर सत्ता पक्ष से जुड़े नेता के कहने पर बनाई गई थी।


फिलहाल सडक़ १५ मीटर ही बन पाई है। इस सडक़ को भी कर्मचारियों ने शुक्रवार को तोड़ दिया। दूसरी आरयूआईडीपी इस निर्माण में गुणवत्ता बड़ी गहराई से देख गई है। वहीं अन्य कॉलोनियों में तोड़ी गई सडक़ों की सुध नहीं ली जा रही है, जबकि इसके कार्य के लिए कलक्ट्रेट में हुई बैठकों में निंदा की जा चुकी है।

 

मामले में आरयूआईडीपी के अधीक्षण अभियंता रिचपालसिंह से बात करनी चाही, लेकिन उनका मोबाइल फोन स्वीच ऑफ था।

 


ये आ रहा है सामने
मौके पर मौजूद कर्मचारी-अधिकारियों के अनुसार अम्बेडकर कॉलोनी में पाइप लाइन डालने का कार्य सालभर पहले किया था, लेकिन सडक़ों का निर्माण अब किया गया है।

 

कई गलियों में अभी सडक़ का कार्य चल रहा है। इस गली में सडक़ निर्माण दबाव के चलते किया गया, लेकिन उच्चाधिकारियों को ये बात नागवारगुजरी और उन्होंने तुरंत आदेश देकर इस सडक़ को तुड़वा दिया।

 

अभियंता दबी जबान से कह भी रहे हैं कि राजनैतिक दबाव के चलते बनाई गई सडक़ को तोड़ा जा रहा है। वहीं तोड़ी गई सडक़ को घटिया बताया जा रहा है।


१०० मीटर बनी है सडक़


अम्बेडकर कॉलोनी में ये सडक़ १०० मीटर बननी है। इसमें दबाव के चलते १५ मीटर सडक़ को जल्द बना दिया गया। जबकि अन्य सडक़ का निर्माण अभी जारी है। इस सडक़ के लिए कई बार लोगों ने प्रदर्शन भी किए, लेकिन अभियंताओं ने सुनवाई नहीं की थी।


शहर में कई स्थानों पर खुदी हैं सडक़ें


सीवरेज व पानी की पाइप लाइन डालने के लिए शहर की गलियों तथा मुख्य मार्गों को खोद दिया गया। इन टूटी सडक़ों की ओर आरयूआईडीपी तथा जलदाय विभाग सालभर बाद भी नजर नहीं डाल रहा है। जबकि दोनों विभागों को इस ओर भी नजर डालनी चाहिए।


पहले नहीं देखा अभियंताओं ने


नियमों के मुतातिबक सडक़ तथा कोई भी निर्माण बिना अभियंता की मौजूदगी में नहीं होता है। निर्माण सामग्री की भी जांच लैब में होती है, लेकिन अब बताया जा रहा है कि अम्बेडकर कॉलोनी की इस गली में जब सडक़ का निर्माण किया गया था तब अभियंता मौजूद नहीं थे। ऐसे में ये सडक़ बना दी गई।


निर्माण घटिया था
-अम्बेडकर कॉलोनी की इस सडक़ का निर्माण घटिया था। इसके चलते ये तोड़ी गई है। राजनैतिक कोई दबाव तो नहीं है। हम मौके पर मौजूद रहते हैं, लेकिन ठेकेदार ने रात को सडक़ बना दी। इससे ऐसा हुआ है।
प्रियंका शर्मा, कनिष्ठ अभियंता, आरयूआईडीपी, टोंक

pawan sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned